शराब और शर्मा जी , a short motivational stories in hindi

0
77
शराब और शर्मा जी , a short motivational stories in hindi
शराब और शर्मा जी , a short motivational stories in hindi

शराब और शर्मा जी , a short motivational stories in hindi

शराब और शर्मा जी , a short motivational stories in hindi हमारी कहानी के पात्र और घटनाएं पूर्णतः

काल्पनिक हैं ऐसे किरदार हर गली कूचे में दो चार देखने को मिल ही जाते हैं । अगर किसी भी व्यक्ति से ये किरदार

मिलान खाते पाए जाते हैं तो ये महज इत्तेफ़ाक़ समझा जायेगा ।

 

motivational stories in hindi,
motivational stories in hindi,

शर्मा जी और वर्मा जी कहने को सरकारी कर्मचारी हैं दोनों मगर मजाल है की इनकी तनख्वाह में ज़रा भी दाग लग जाए

, इनकी सिर्फ एक धैना है राम नाम जपना पराया माल अपना फ्री का लूट खसोट का जितना माल मिल जाए अंदर करते

चलो , शर्मा जी और वर्मा जी पेशे से सरकारी ड्राइवर है , लेकिन नौकरी में अनियमितता के चलते इन्हे ट्रैक्टर चलाने के

लिए के लिए ही नियुक्त कर दिया गया , इतने से ही आप समझ गए होंगे कितने चालू हैं दोनों मजाल है इनके रहते

कैंपस के अंदर कोई पेट्रोल गाड़ी आ जाए और इन्हे कम कीमत में पेट्रोल दिए बिना चली जाए , ऐसा कदापि नहीं हो

सकता था क्यों की अन्य अधिकारीयों के ड्राइवर्स भी इनकी शरणागत थे , ये जिस किसी गाड़ी से पेटोल निकलवाते बदले

में थोड़ा बहुत पैसा दूसरे ड्राइवर को देते ।

 

motivational stories in hindi,
motivational stories in hindi,

अब आप सोचेंगे की ये इतना पेट्रोल करते क्या थे , पहले तो खुद की बाइक में भरते जो बच जाता उसे बेंचकर शाम को शराब पीते ,

अब क्यूंकि इन्हे रोज़ शराब पीनी होती थी इसके लिए ये देशी शराब पीते थे , ताकि दूसरे दिन के लिए भी बजट

बना रहे , बात उन दिनों की है जब इनकी ड्यूटी एक सरकारी प्लॉट जोतने में लगाई गयी , झमाझम बारिश हो रही थी

गाँव खेड़े का इलाका था , ट्रैक्टर से उतरते समय कल्टीवेटर का कुसिया शर्मा जी के पाँव में लग गया , बारिश तेज़ थी

शर्मा जी ने ध्यान नहीं दिया मामूली मलहम पट्टी किये दो पैग मारे सो गए , सुबह उठे काम पर चले गए , बारिश चालू

थी इस तरह हफ़्तों का टाइम बीत गया चोंट सूखने का नाम नहीं ले रही थी , मामला सीरियस हो गया शर्मा जी ने छुट्टी

ली हॉस्पिटल में दिखाया डॉक्टर ने बोला ब्लड टेस्ट करना होगा अब तक तो घाव ठीक हो जाना चाहिए था , ब्लड टेस्ट

की रिपोर्ट आई रिपोर्ट में शुगर की अधिकता पायी गयी , डॉक्टर ने बोला शराब छोड़ दो नहीं तो घाव कभी नहीं भरेगा ,

मगर शर्मा जी मानने वाले कहाँ थे , और वर्मा जी तो मित्र थे ही शराब लाकर देने वाले , समय बीतता गया , आखिर

वर्मा जी भी कब तक शराब पिलाते , वर्मा जी को ड्यूटी में दूर जाना पड़ा जिससे उनका रोज़ आना मुश्किल हो गया था ,

 

motivational stories in hindi,
motivational stories in hindi,
पैर में एक बार फिर दर्द बढ़ा डॉक्टर ने कहा की पैर काटना पड़ेगा , डॉक्टर साहेब तो शर्मा जी से भी बड़े पियक्क्ड़ निकले

पैर काटना था बांया काट दिए दांया , अब शर्मा जी एक पैर से हो गए थे आखिर शराब लाकर दे कौन बेटे से बोलते तो

बेटा नाराज़ होता बीवी चिल्लाती अलग से , शुगर बढ़ा था ही दूसरे पैर के काट दिए जाने की एक और चिंता शर्मा जो को

दिन प्रतिदिन खाये जा रही थी , जेब में तनख्वाह के अलावा कुछ नहीं आता था वो भी बीवी को घर चलाने के लिए देनी

पड़ती थी , ज़बरदस्त डिप्रेशन के चलते शर्मा जी को एक दिन आया हार्ट अटैक और शर्मा जी इस दुनिया को अलविदा कहते हुए चले गए ,

बचे वर्मा जी जब उनको पता चला की शर्मा जी तो स्वर्गसिधार गए , उनसे बर्दास्त नहीं हुआ और वो देररात तक शराब

पिए फिर जाने क्या हुआ की सुबह घर में फांसी पर लटकती उनकी लाश मिली ।

शर्मा जी के तो बेटे बाप की जगह अनुकम्पा नियुक्ति मिल गयी , वर्मा जी का तो आगे पीछे कोई था भी नहीं ।

 

इतिशिद्धियेत

 

sad poetry in urdu about love 

pix taken by google