आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी alfaaz shayari ,

आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी alfaaz shayari ,

0
1359
आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी alfaaz shayari ,
आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी alfaaz shayari ,

आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी alfaaz shayari ,

आईन ए सूरत पर होती है ग़ज़ल ऐसी ,

रु ब रु ए इश्क़ में हूबहू सनम जैसी ।

 

तस्बीह फेरते ग़र ख़ुदा मिलता ,

मेहबूब ए इलाही हर इब्न ए इंसान के माथे पर गुदा मिलता ।

 

उफ़ भी नहीं कहते सोचने का मौका भी नहीं देते ,

सीधा तीर ए जिगर के पार रखते हैं ।

sad shayari 

आज जो उंगलियां उठाते हैं तेरे जज़्बे पर ,

कल ज़माना तेरे बाब ए सुखन को सलाम ठोकेगा

 

तहरीर ए वक़्त की इबारतें लिखते ,

आदम ए खुल्द की सूरतें बदल जाती हैं ।

 

जहां के ज़र्रे ज़र्रे में मोहब्बत की ख्वाहिश है ,

दिल ए नाचीज़ को वादे वफ़ा की आज़माइश है

 

शब् ए फुरक़त में नींद आती नही ,

ख़्वाब आँखों में सजाकर सोता है कौन ।

 

नींद भर के आँख सोती नहीं ,

तेरे ख़्वाबों को तह ए दिल का मेहमान करके

 

आँखों के रास्ते वीरान पड़े हैं सारे ,

न ख़्वाबों का कारवां न नींदों का सिलसिला ।

 

खार ख़्वाबों के ग़र सुकून देते ,

फसल ए गुल बाद ए मौसम के भी खिला करते

love shayari 

होता जहां का हर मंज़र हसीन ,

ग़र ख़्वाब तेरे मेरी नींदें न लूट लिए होते ।

 

दिल के ज़ख्मों को न छेड़ो नासेह ,

गोया सोयी पड़ी रात दर्द के गीत गुनगुनायेंगे ।

 

जुगनुओं सी जलती आँखें ,

जाने किसकी राहों में नज़र रखती हैं ।

 

नयी सुबह आगाज़ ए बिश्मिल के वास्ते ,

क्या ज़िन्दगी सिमटी है महज़ ख़ाक ए सुपुर्दगी के रास्ते ।

 

मन चंचल विचलित है नभ पर ,

कोई अनंत बत्तखों की श्रृंखलाएं ,

विद्यमान हैं जल पर

 

रात्रि के चारों प्रहर निर्भीक निडर निश्छल जल में ,

चहुँ और प्रखर है जलकुम्भी ।

 

हँसते हुए चेहरों में खलिश होती है ,

कुछ तज़ुर्बा ए इश्क़ कुछ बोहतान की दबिश होती है ।

 

गरूर ए इश्क़ में फ़िरता था ज़माना सारा ,

अब कोई नाम न लेगा रूबरू ए बोहतान के बाद ।

pix taken by google

Download WordPress Themes Free
Download WordPress Themes Free
Download Premium WordPress Themes Free
Free Download WordPress Themes
free online course
download xiomi firmware
Download WordPress Themes Free
download udemy paid course for free

NO COMMENTS