जिस मुहाने से रोज़ तकते हो dard shayari,

0
457
जिस मुहाने से रोज़ तकते हो dard shayari,
जिस मुहाने से रोज़ तकते हो dard shayari,

जिस मुहाने से रोज़ तकते हो dard shayari,

जिस मुहाने से रोज़ तकते हो ,

गोया चाहे किरिया करवा लो उसके मार्फ़त तबाही की कोई लहर ही नहीं ।

 

तेरा हर लम्स अब भी धड़कता है मेरे सीने में ,

मगर शब् ए हिज्र सुलगे दिल में वो अंगार नहीं है ।

 

सुबह को देखना रात बहुत लंबी थी ,

आज फिर कदम तेरे कूचे पर लड़खड़ाए हैं ।

 

ज़ौक़ ए शायरी भी करते हो आबिद या खाली जाम के सरमाये हैं ।

sad shayari

सोते हो रत जगे हो या अधखुली आँखों में,

कोई ख्वाब सजाये बैठे हो ।

 

सुर्ख सफक उजालों में आदतें मेरी खराब कर कर के ,

दरमियानी रात के दायरे में कहते हैं सीधा घर को निकल जाओ ।

तुम तो बस शब् ए गुल की तरह खिलते हो,

जब भी मिलते हो क़यामत की तरह मिलते हो ।

 

इतना गज़ब न था तेरा रूठकर जाना ,

फिर अखर जाता है उन हसीं हादसों से गुज़र पाना

 

मोहब्बत की दुआओं से दम निकलता है ,

मर मर के भी अब आहें हम नहीं भरते

 

ये ख़ामोशी क्यों है कहाँ वो कहकशां है ,

चलो चिलमन हटाओ दिल का नशेमन जवां है ।

 

गरूर ए ताक में बैठा है दुश्मन ,

तू रहना सरफ़रोशी से , ज़रा झपकी पलक वो सर ज़मीन से नोच ले जाए ।

hindi shayari 

वो जो थे क्या कम थे ये जो हैं क्या कम हैं ,

मुझको दुनिया अच्छी नहीं लगती गोया उनको मोहब्बत की पड़ी है ।

 

गम ए दौरान सर्द रातों में सूखे दरख्तों पर लटकती रूहें ,

दर्द की टीस न सुन सका कोई अब तो दिल भी कठवा का हो गया होगा ।

 

वो जो बात बात में पूछते हैं तेरा मज़हब क्या है ,

गोया ज़राफत के लिए इब्न ए इंसान हूँ इतना क्या कम है ।

pix taken by google