जो तेरी नज़रों के पैमानों में डूब मरे गुमनाम पड़े हैं urdu quotes in hindi 140 words ,

0
469
जो तेरी नज़रों के पैमानों में डूब मरे गुमनाम पड़े हैं urdu quotes in hindi 140 words ,
जो तेरी नज़रों के पैमानों में डूब मरे गुमनाम पड़े हैं urdu quotes in hindi 140 words ,

जो तेरी नज़रों के पैमानों में डूब मरे गुमनाम पड़े हैं urdu quotes in hindi 140 words ,

जो तेरी नज़रों के पैमानों में डूब मरे गुमनाम पड़े हैं ,

जिन्होंने लब से लगाई नहीं वो महफ़िल में बदनाम खड़े हैं ।

 

संगदिल ज़माने का यही दस्तूर रहा सच्चे आशिक़ों को मिलती है हिज़्र ए तन्हाई ,

बेक़दरों को मोहब्बत की तौफ़ीक़ अदा फरमाना ही बस मंज़ूर रहा ।

 

एक ज़माने थे जब रूबरू ए यार ही इश्क़ ए आगाज़ हुआ करते थे ,

अब तो फेसबुक का पासवर्ड ही मोहब्बत का अंजाम हुआ करता है ।

haq quotes,

चंद सफ़हों में सिमट जाती है ज़िन्दगी सारी ,

बस कुछ रिश्तों के मरहला ए मसला ताउम्र हल नहीं होते ।

 

खुदाई तनिक भर की जिसमे भी उसे मिल जाए ,

फिर ज़मीन होती नहीं मयस्सर सीधा ऊपर ही बुला लेता है ।

 

जाने किस उम्र के दौर बसर में हैं ,

कोई इत्तेला करो उनको ग़ालिब उनके शहर में हैं ।

 

बदन को चुभती हैं साँसे तेरी ,

सर्द रातों में सरगोशियों से आना तेरा बुझे बुझे से अरमानो को जलाना तेरा ।

 

हवा हवा सी फ़िज़ाओं में बात होती है ,

जवान लहू को कहाँ दुआओं की फ़िक्र होती है ।

 

बूढ़े माँ बाप की आँखों में तो अरमान थे बस ,

खाली अरमानो की भी कहीं पर दूकान सजती है ।

 

दिल की सल्तनत पर हुकूमत तेरी ,

और तू कहता है मेरे जान ओ माल का दुश्मन सरहद के पार बैठा है ।

 

फ़िज़ाओं घनघोर घटाओं को साथ लेकर आओ ,

मेरा दाग़ ए जिगर बनकर सीने में मेरा यार बैठा है ॥

 

जिस शहर में मिटटी बिकती हो गमलों के लिए ,

उस शहर का बच्चे मरहला ए ज़मीन का मसला न झेल पाएंगे पल भर के लिए ।

 

लिफ्ट में चढ़ते उतरते उम्र का पता नहीं चलता ,

सीढ़ियों की थकन से अब साँस हाँफ जाती है ।

pari ki kahani,

पैर टिकते नहीं किसी दर पर उसके ,

जो बात बात पर तामील ए खुदाई की बात करता था ।

pix taken by google