malevolent ai super natural tales in hindi ,

0
267
malevolent ai super natural tales in hindi ,
malevolent ai super natural tales in hindi ,

malevolent ai super natural tales in hindi ,

मृत जीवाश्म में धंसे एलियन के बच्चे अब खुद बा खुद बाहर निकल रहे हैं तभी एक हुमोनोइड रोबोट बोर्न बेबी चाइल्ड को हाँथ में उठाता है, उठाते ही बेबी तेज़ चहचहाहट के साथ खाने के लिए जीभ लपलपाने लगता है , सारा कमरा नई बोर्न बेबी की चीख से गूँज उठता है हुमोनोइड रोबोट्स कहते हैं वैरी गुड और इंसानी ब्लड से भरी बॉटल उस नई बोर्न एलियन बेबी के मुँह में ठूस देते हैं बेबी के टेंटीकल्स बॉटल को हाँथ में पकड़ कर छक्क छक्क की आवाज़ के साथ बॉटल का ब्लड पीने लग जाता है , ही हाँ हूँ जिपिंग जूँ के नारे से सारा आयरलैंड गूँज उठता है , एलियंस की भाषा में ये नयी सभ्यता का प्रारम्भ था , ह्यूमन फार्मिंग के लिए उत्तम भ्रूण लॅबोरेटरी में तैयार किया जा रहा है , जिनका उपयोग एलियंस बेस्ट हुमोनॉइड रोबोट्स बनाने में कर रहे थे , और अन्य द्वीपों पर पाए जाने वाले कबीले के सदस्यों को मार दिया जाता था , और उनका ब्लड बेबी एलियंस को पिलाने के लिए कुछ एक रासायनिक प्रक्रियाओं के बाद ब्लड बैंक में स्टोर कर लिया जाता है , तथा अयोग्य मनुष्यों की नश्ल को तबाह करने के लिए एलियन ने हुमोनॉइड रोबोट के अंडर में काम करने वाला एक लीडर नियुक्त कर दिया है , जो की अयोग्य माता पिता को मेडिसिन के द्वारा ताउम्र के लिए पैरालाइज़्ड करवा देता है , और उनकी अयोग्य संतान को नशे का इतना आदी बना देता है की वो जीते जी जोम्बी बन जाते हैं वो ज़िंदा होकर भी जीवित नहीं रहते हैं इस नशा को बनाने के लिए कब्रों में सोये पड़े मुर्दों की हड्डियों से बनाया जाता था जिससे ड्रग्स लेने वाला व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग हो जाता है उसे सिर्फ खाना दिखाई देता है और प्रमुख लीडर का काम था उनके लिए भोजन की व्यवस्था करना सोशल एक्टिविटीज़ में कोई दखल भी नहीं होता है , प्रमुख लीडर खुद एक एलियन था जो की मनुष्यों के बीच में रह कर उनकी कमज़ोरियों का आंकलन करता था ,

Horror Stories in Hindi

हुमोनोइड रोबोट्स मनुष्य और मशीन के बीच की कड़ी थे , वो सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड पर अपना साम्राज्य स्थापित करना चाहते थे , मशीन कहीं मनुष्य को अपने फेवर में लेकर एलियंस के खिलाफ युद्ध न छेड़ दे इस बात का भय भी एलियंस को बना रहता है , इस लिए अब वो रोबोट्स को एलियंस के दिशा निर्देशों का पालन करने वाला बना रहा था , और वो चाहकर भी मनुष्य का अस्तित्व नष्ट नहीं कर सकता था , क्यों की सदियों से बंजर पड़ी आकाश गंगा में पहली बार पर्याप्त रूप में ईंधन और भोजन मिला है , नैना हुमोनोइड और एलियंस दोनों का मिक्स वर्जन है , कहीं सम्पूर्ण गृह पर एलियंस का अगर कब्ज़ा हो गया तो सम्पूर्ण मानव जाती के नष्ट होने का भय नैना के मानव मष्तिस्क में हमेशा से ही चलता रहा है , नैना ने राजवीर के साथ जिन बच्चों को जन्म दिया था वो अब बड़े हो चुके थे उन पर नैना का कोई कण्ट्रोल नहीं था वो डायरेक्ट सेटेलाइट से कनेक्ट थे और एलियंस के बताये दिशा निर्देशों का पालम करते थे , अब नैना के पास दुबारा बच्चे पैदा करने का एक ही विकल्प था राजवीर की औलाद पम्मी जिसे सिमरन ने पैदा किया था , जो की महज़ १० साल का बच्चा था , आयरलैंड में हीं हाँ हूँ जिपिंग जूं का नारा बड़ी तेज़ी से बढ़ रहा था हुमोनोइड रोबोट्स भी अब एलियंस के सामने खुद को ठगा ठगा महसूस कर रहे थे , जिस गर्म जोशी के साथ उन्होंने इस आयरलैंड में अपना साम्राज्य स्थापित करने का सपना देखा था वो अब धूमिल होता नज़र आ रहा था , और उनकी हर एक एक्टिविटीज़ पर एलियंस की ख़ास नज़र रहती है वो चाहकर भी बगावत नहीं कर सकते , बगावत करने पर एलियंस उनका अस्तित्व कुछ ही क्षणों में पलक झपकते ही ख़तम कर देंगे , सारा कण्ट्रोल सेटेलाइट से है , नैना को भविष्य की चिंता थी , किन्तु नैना के भीतर मौजूद एलियन उसे बगावत करने से रोक देता है ,

नौजवानो में बढ़ रही ड्रग्स की लत उन्हें मुर्दा इंसान बना रही थी , विश्व हेल्थ आर्गेनाईजेशन भी चाहकर इन्हे एंटीडोज़

नहीं दे सकता था , क्यों की जब तक गवर्नमेंट का आदेश नहीं होगा कोई कानूनी कार्यवाही नहीं की जा सकती थी , और सरकार कोई इंसान नहीं बल्कि दूसरे गृह के जीव अर्थात एलियंस चला रहे थे और शूट एट साइट का आर्डर पहले ही दे रखी थी , गोली मारने में कोई नरमी न बरती जाए इसके लिए रोबोट्स का उपयोग किया जा रहा था , क्यूंकि फ़ोर्स अब पूरी तरह से रोबोटिक्स हो चुकी थी , राजवीर की मौत के बाद घर चलाने और बच्चे की पालने की ज़िम्मेदारी सिमरन के ऊपर आ चुकी थी , दिन भर उसे ऑफिस में ही रहना पड़ता था , पम्मी अब १६ साल का हो चुका था , बचपन में ही पिता का साया सर से उठ जाने की वजह से पम्मी की ठीक ढंग से परवरिश नहीं हो पायी थी , वो गुमराह हो चुका था , बात बात पर सिमरन से लड़ पड़ता था , खून की जगह ड्रग्स दौड़ रही थी उसकी नशो में , नशे की लत को पूरा करने के लिए वो गैर कानूनी काम भी बेझिझक होकर करने लगा था , सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन में भी उसका नाम पेपर की हेड लाइन्स में छपता रहता था , गवर्नमेंट के शूट एट साइट के आर्डर में उसका नाम फ्रंट में था ,

रात रात भर घर से बाहर रहना उसके लिए आम बात थी , ऐसे क्रिमिनल से कौन लड़की दोस्ती करेगी कोई नहीं इसलिए उसने एक सिलिकॉन ए, आई , डॉल को अपनी बेस्ट फ्रेंड बना रखा था , सिमरन इस बात से भलीभांति वाक़िफ़ थी , वो आये दिन पम्मी को डांटती रहती थी और कहती थी देख तू इस नाशपीटी मशीन को साथ में रखना बंद कर दे , इसी मशीन की वजह से तेरे बाप की जान गयी थी , अब तेरी भी जान जाएगी इसकी वजह से सिमरन की बात सुनकर पम्मी की सिलिकॉन डॉल जिसका नाम नैंसी है वह दुखी हो जाती है उसके फेसिअल एक्सप्रेशंस इतने रियल थे की कोई भी उसकी मासूमियत पर आसानी से फ़िदा हो सकता था , और जब वह रोती है तब उसकी आँखों से आंसू भी निकलते हैं , जो की किसी भी ह्यूमन को आसानी से इमोशनल बना सकते हैं , उसके इसी फीचर्स के चलते सिमरन भी चुप हो जाती है , मगर हिंदुस्तानी औरत है बीच बीच में टोंट तो मार ही देती है , रात का वक़्त है , कॉलोनी में चारों तरफ सन्नाटा फैला हुआ है , एलियंस रोबोट के नेतृत्व में हुमोनोइड रोबोट्स गली गली में छुपे कमज़ोर नशेड़ी युवाओं को पकड़ पकड़ कर जानवरों की तरह वैन में ठूस ठूस कर भर रहे थे , ये सब गवर्नमेंट की देख रेख में हो रहा था ज़्यादातर नशेड़ियों को दौड़ा-दौड़ा कर गोलियों से भून दिया जाता था जिन में थोड़ा बहुत ब्लड होने की सम्भावना रहती है उन्हें रख लिया जाता है, इधर पुलिस वैन के सायरन की आवाज़ सुनते ही शहर के पब में चल रही रेव पार्टी में खलबली मच जाती है , हड़बड़ाहट में सब इधर उधर भागते हैं , पम्मी भी अपनी सिलिकॉन डॉल नैंसी के साथ वहाँ से भागता है और रोबो फाॅर्स को देखकर कूड़ेदान के पीछे जाकर छुप जाता है ,

urdu quotes in hindi , 

तभी हुमोनोइड के बताये दिशा निर्देशों का पालन करते हुए फ़ोर्स पम्मी और नैंसी को चारों तरफ से घेर लेती है और बॉडी स्कैन करने लग जाती है बॉडी स्कैन करने पर पता चलता है , एक रोबोट है और दूसरा ह्यूमन है फ़ोर्स नैंसी को पम्मी से अलग होने का आदेश देती है , मगर नैंसी फ़ोर्स का आदेश नहीं मानती है और फ़ोर्स कमांडो फायरिंग का आदेश दे देता है , नैंसी बीच में कूंद पड़ती है लेज़र बीम नैंसी के बाजू को चीरती हुयी निकल जाती है और पम्मी वहाँ से नैंसी के साथ बच निकलता है , और दूर जंगल में झाड़ियों में जाके छुप जाता है , जिससे वो हुमोनोइड रोबोट्स की फ़ोर्स से तो बच जाता है , मगर नैना की एलियंस रोबोट्स से नहीं बच पाता है , नैना की एलियंस रोबोट्स सेना पम्मी को एक बार पुनः पकड़ लेती है , और नैना के जिस्म में मौजूद एलियंस बार बार नैंसी और पम्मी को डिस्ट्रॉय करने का आदेश देने लगता है मगर नैना के जिस्म में मौजूद ह्यूमन हार्ट उसे मारने से रोकता है , क्यों की उसका डीएनए राजवीर के डीएनए से मैच करता है , नैना पम्मी को पहचान जाती है , वो राजवीर का खून था और नैना के अंदर मातृत्व भावना जाग जाती है क्यों की उसने अपने बच्चों को खोया था , अब वो नहीं चाहती की कोई औरत जो उसकी वजह से अपना पति खोयी है अपना बेटा भी खोये , वो अपने जिस्म के अंदर मौजूद नन्हे शैतान एलियंस को अपनी बॉडी से निकाल कर लेज़र बीन से भून देती है , पम्मी और नैंसी को बचा कर वहां से भाग जाती है , और एक गुप्त स्थान पर ले जाकर नैंसी और राजवीर का इलाज़ करती है , नैना को सामने देख कर पम्मी डर जाता है , नैना उसे विश्वास दिलाती है की उसके पिता की हत्या उसने नहीं की थी बल्कि एलियंस ने करवाई थी वो अपने कण्ट्रोल में नहीं थी , वो वही कमांड फॉलो करती थी जो एलियंस उसे देते थे , अब वो एलियंस से मुक्त हो चुकी है , और उसे डरने की कोई ज़रुरत नहीं है ,

नैना एलियंस के हांथों मानव जाती की तबाही नहीं देख पा रही थी , उसे मनुष्य के साथ सुखों का भोग करने के लिए

बनाया गया था , कुछ दुष्ट आसमानी ताकतों द्वारा उसके प्रोग्रामिंग में छेड़छाड़ की वजह से उसे उनके बताये कमांड को फॉलो करना पड़ रहा था , तभी एक लेज़र बीम नैना की तरफ बढ़ती है , नैना ये समझ जाती है की ये स्थान एलियंस की नज़र में आ चुका है , वो नैंसी और पम्मी को लेकर वहाँ से निकल जाती है , और सबमरीन की सहायता से समुन्दर की अनंत गहराइयों में चली जाती है , जहां उसे एलियंस का सेटेलाइट चाह कर भी नहीं ढूंढ पाता है , इधर न्यूज़ चैनल में फरार पम्मी की खबर ज़ोरों शोरों से सभी चैनल्स पर चल रही की , सभी सोशल साइट्स पर पम्मी और उसकी फरार दोस्त नैंसी को पकड़वाने वाले के लिए १२ मिलियन का इनाम रखा गया था , पार्लियामेंट हाउस में नैना के गायब होने के बाद अफरा तफरी का माहौल बन गया था एलियंस ने अपने जिन नुमाइंदों को महामंत्री बना के रखा था वो ये समझ गए  थे की अगर उनका भांडा फूटने पाया तो सम्पूर्ण मानव जाती पर राज करने का सपना अधूरा रह जाएगा , उसके लिए खुफिया एंटी हुमोनोइड टास्क फाॅर्स का गठन किया गया , और देखते ही उसे डिस्ट्रॉय करने का आदेश दे दिया गया , मशीनों के ज़्यादा उपयोग की वजह से ज़मीन का तापमान दिन दोगुना रात चौगुना बढ़ रहा था , सम्पूर्ण धरती एक मरुस्थल में बदल चुकी थी , पर्यावरण लगभग खत्म हो चुका था ग्लेसिअर पिघल रहे थे , हर तरफ मशीनों की घर्र घर्र से कान के परदे फटने लगे थे , शोर का प्रभाव इतना ज़्यादा था की लोगों के कान से खून निकल आता था , हॉस्पिटल्स हीट वेव की चपेट में आये मरीज़ों से भरा पड़ा था , धरती का अब मात्र ५% हिस्सा बचा था बाकी हिस्सा पानी में जल मग्न हो चुका था , चतुर्थ विश्व युद्ध भूखे नंगे इंसानो और सुदृढ़ मजबूत कूट नीति से परिपूर्ण मशीनों के बीच होने वाला था , शीत युद्ध तो कब का चालू था , बस खुले तौर पर युद्ध का आगाज़ होना बाकी था , चतुर्थ विश्व युद्ध में आमने सामने सिर्फ मानव और मशीन नाममात्र के थे , इसमें ऐनिमल्नोएड रोबोट्स का भी उपयोग किया जा रहा था , जिसमे शेर कुत्ते के साथ साथ विलुप्त हुए डायनासौर भी शामिल थे इन्हे किस तरह इस्तेमाल करना है ये एलियंस भलीभांति जानते थे , क्यों की इस युद्ध के असली सूत्रधार एलियंस थे , जो सम्पूर्ण आकाश गंगा के विनाश का बैठ कर नज़ारा कर रहे थे ,

shayari in hindi 

नैना ने मानव जाती के संरक्षण का बीङा अपने सर उठा रखा है , उसने अपने कुछ ख़ास नुमाइंदों की मदद से समुन्दर के अंदर एक खुफिया सुरंग में मनुष्यों को छुपाने की व्यवस्था कर रखी थी बाहर का तापमान मनुष्यों के अनुकूल नहीं था , ज़्यादातर धरती या तो जलमग्न हो चुकी थी या फिर मरुस्थल में तब्दील हो चुकी थी , बर्फ से ढंके जंगल पानी से भरे समुन्दर में तब्दील हो रहे थे , नैना ने आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की मदद से जल में घुली ऑक्सीजन का उपयोग करना सीख लिया था ऑक्सीजन के लिए मनुष्यों को अब समुन्दर के अंदर सिलिंडर ले जाने की ज़रुरत नहीं थी अब एक ख़ास गैजेट थे जिससे जल में घुली ऑक्सीजन मनुष्यों को सांस लेने में मदद करती थी , समुद्री जीवों को मार कर खाना अब समुन्दर के अंदर छुप कर रह रहे मनुष्यों की तक़दीर बन गया था , बाहर का टेम्परेचर इतना ज़्यादा हो गया था , की सूर्य की रौशनी के संपर्क में आते ही मानव शरीर जल कर राख हो जाता था , और यही हाल ह्यूमोनोइड रोबोट्स का भी था , अत्यधिक गर्मी पहुंचते ही उनके पार्टिकल्स डैमेज हो जाते थे , जिसके कारण उनके अंदर मौजूद ह्यूमन ऑरगन्स छटपटाने लगते थे और बहुत ज़्यादा हीट वेव में बैटरी ब्लास्ट हो जाती थी , ह्यूमन ऑर्गन्स का एक मशीन के साथ तड़पना बहुत कष्टदायक होता था , लम्बे आइसोलेशन के बाद पम्मी पूरी तरह से स्वस्थ हो गया था उसके जिस्म से अब ड्रग्स का असर लगभग ख़त्म हो चुका था अत्यधिक ड्रग्स लेने की वजह से कभी कभी बेहोशी के झटके आ जाते थे , इधर मनुष्यों ने समुद्र के अंदर जीवन जीना अभी सुरु ही किया था की , एलियंस द्वारा निर्मित मोसेसौरस रोबोटिक पानी का डायनासौर नैना के राडार में दिखाई देता है , जिसे पानी में रह रहे मनुष्यों के विनाश के लिए भेजा गया था वो असली डायनासौर से कहीं ज़्यादा खतरनाक था उसके खतरनाक जबड़े तो थे ही साथ में उसके मुँह से आग की लपटें भी निकलती है , जिस पर समुन्दर का पानी बेअसर था , किसी आम इंसान का उसकी आग की लपट के चपेट में आना सीधा मृत्यु को निमंत्रण देने जैसा था , नैना और उसके अन्य हुमोनोइड रोबोट्स के लिए मोसेसौरस से आमने सामने भिड़ पाना बहुत कठिन था क्यूंकि न तो ये अन्य मछलियां खाता था क्यों की ये खुद एक रोबोट था बस इसे चार्ज होने के लिए धूप के संपर्क में जाना पड़ता था , और वो भी कम से कम समय के लिए ज़्यादा समय के लिए अगर ये धूप के संपर्क में जाएगा तो ग्लोबल वार्मिंग की वजह से ब्लास्ट होने का खतरा था , इसके लिए इसे समुन्दर की सतह पर आना पड़ता था वही एक वक़्त था जब इसके केबिन में घुसकर जो की इसके पेट में था वायरिंग से छेड़ छाड़ कर ब्लास्ट किया जा सकता था , और हुमोनोइस माइक्रो रोबोट्स की मदद से नैना ने इस मौके का भरपूर फायदा उठाया , और जब मोसेसौरस समुन्दर की सतह पर ऊपर था तब नीचे उसके पेट में बने केबिन को खोल कर नैना के हुमोनोइड माइक्रो रोबोट्स ने उसमे ब्लास्ट कर दिया जिससे मोसे सौरस वहीँ ब्लास्ट हो गया , अब नैना के सामने एलियंस से बड़ी समस्या थी , ज़मीन पर मौजूद रोबोटिक टी रेक्स , उनकी मशीनी पैनी नज़र से बच पाना इसके लिए सिर्फ एक ऑप्शन था एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए खुद को वेव तरंगों के माध्यम से ट्रांसमिट करना जिससे की वो रोबोटिक खूंखार टी रेक्स जैसे डायनासौर से बच जाते थे , मगर इंसान के भेष में छुपा एलियन अर्थात प्रमुख नेता आज भी सम्पूर्ण आकाश गंगा को अपना गुलाम बनाने का ख्वाब देख रहा था , उसने अपने लिए ख़ास सुरक्षा कवच बनवा रखा था , जिस पर सूर्य की तीव्र किरणे बेअसर थी ,और अपने एलियंस रोबोट्स को अपने सामने मरता देख कर भी उसके दिल में ज़रा भी दया का भाव नहीं था , उसके गुलाम ग्रह छोड़ कर जाना चाह रहे थे मगर उसने उन्हें उम्मीद दिला रखी थी , सम्पूर्ण विनाश के बाद एक नए ब्रह्माण्ड के रचना की , और उन सब को आश्वाशन देर रखा था की नए गृह में सबको भर पेट खाना भरपूर वंशवृद्धि का अवसर और महत्वपूर्ण पद दिए जाएंगे इंसान के साथ रहते रहते एलियंस भी मनुष्यों की तरह लालची हो रहे थे उनके अंदर लालच के वायरस का असर साफ़ देखा जा सकता था , तभी मनुष्य के रूप में ग्रह पर मौजूद एलियंस के प्रमुख नेता को समुन्दर के अंदर मनुष्यों के छुपे होने की भनक लग जाती है , वो अपने शैतानी रोबोटिक मोसेसौरस पर सवार होकर अपनी अन्य मोसेसौरस की सेना के साथ समुन्दर के अंदर छुपे नैना ,पम्मी नैंसी और उसके साथियों को ढूढ़ना सुरु कर देते हैं , नैना के गुप्तचर ये खबर नैना और उसके साथियों तक पंहुचा देते हैं ,

इधर आयरलैंड में हीं हाँ हूँ जिपिंग जूँ का नारा कमज़ोर पड़ता जा रहा था , क्यों की हीट वेव की चपेट में या तो ज़्यादातर

एलियंस भूख से या तो मर चुके थे या तो भाग कर अपने ग्रह जा चुके थे , यही हाल एलियंस रोबोट्स का भी था बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग में सर्वाइव नहीं कर पा रहे थे और एक एक कर हीट वेव की चपेट में आते ही ब्लास्ट होते जा रहे थे , यही वक़्त था जिस मशीन को इंसान की मदद के लिए बनाया गया था वो उसकी मदद कर अपना फ़र्ज़ निभाए , नैना हेल्प के लिए अपना मैसेज आयरलैंड पर बचे हुमोनोइड रोबोट्स तक भेजती है , बची खुची हुमोनोइड रोबोट्स की टुकड़ी फ़ौरन समुन्दर के रास्ते नैना की मदद के लिए पहुंच जाती है इधर नेता प्रमुख अपनी एलियंस रोबोट की सेना लेकर नैना को ढूढ़ रहा था , और वह उसे ढूढ़ भी लेता है और लेज़र मिसाइल का हमला करता है तभी ऐन वक़्त पर आयरलैंड वाली हुमोनोइड रोबोट्स की फ़ौज पहुंच जाती है और मिसाइल का रुख वापस प्रधान नेता की सब मरीन की तरफ मोड़ देती है , सब मरीन में मौजूद नेता जी के ज़्यादातर चमचे जल कर ख़ाक हो जाते हैं कुछ बचे खुचे चमचो को मास्क पहन कर समुन्दर की गहराइयों में कूदना पड़ता है , अब सब चमचों का नेतृत्व खुद नेता जी कर रहे थे , तभी एक मोसेसौरस आता है और नेता जी की आधी पलटन को साफ़ करके चला जाता है , नेता जी मास्क के अंदर से कुछ बोलते हैं अपना असली चेहरा भी मोसेसौरस को दिखाते हैं मगर उसे कोई फर्क नहीं पड़ता और वो दूसरे झटके में नेता जी के साथ उनकी पलटन को निगलता हुआ वहाँ से गुलाटी मारता बहुत दूर निकल जाता है , इधर ज़मीन के साथ साथ पानी भी खौलने लग जाता है और समुन्दर के अंदर मौजूद तमाम जीव जंतु मरने लग जाते हैं, इस बार कोई उल्का पिंड धरती से नहीं टकराता है बल्कि सम्पूर्ण धरती स्वयं एक उल्का पिंड में तब्दील हो जाती है , और धरती से सम्पूर्ण मानव जाती के साथ साथ जीवन का अंत हो जाता है ,

हॉरर स्टोरी सच्ची घटना

समय बीतता है जलता हुआ गृह धीरे धीर शांत होता है जलता हुआ लावा पिघल कर चट्टानों में तब्दील हो जाता है , चट्टानों से बड़े बड़े पहाड़ बनते हैं शांत होते ही वायुमंडल में बादल छा जाते हैं और झमा झम बारिश होती है , ये बारिश महीनो चलती है , धरती की प्यास बुझती है जीवन एक नयी दिशा की तलाश में निकल पड़ता है पहाड़ों पर नन्हे नन्हे पौधे उगने लगते हैं , गड्ढे पानी से भर जाते हैं एक कोशीय जीव की उत्पत्ति जल में हो जाती है और धीरे धीर वो बहुकोशीय जीवों में तब्दील हो जाते हैं , जलाशय के किनारे मौजूद पेड़ों पर चढ़ कर मेढक टर्र टर्र का गीत गा रहे हैं तभी तभी बुलुक की आवाज़ के साथ पानी से फूटबाल की अकार का अंडा निकलता है और पानी में तैरने लग जाता है , और थोड़ी की देर में खुद बा खुद किनारे आकर अपने आप खुल जाता है , तभी उसमे से एक छोटा सा बच्चा जो की इंसान और मशीन की मिक्स नश्ल से बना है उछल कर बाहर निकलता है , और फुदकता हुआ आगे निकल जाता है। सम्पूर्ण विनाश से पहले नैना ने नैंसी और पम्मी से उत्पन्न भ्रूण को एक एंटी न्युक्लीअर कवच के अंदर गृह के कोर में छुपा के रख दिया था जो की अब एक मशीन और इंसान का मिक्स बच्चा बन चुका था ।

पहले की कहानी……

pics taken by google ….