आशिक़ है तलबग़ार है दीदा ए यार का romantic shayari ,

0
408
आशिक़ है तलबग़ार है दीदा ए यार का romantic shayari ,
आशिक़ है तलबग़ार है दीदा ए यार का romantic shayari ,

आशिक़ है तलबग़ार है दीदा ए यार का romantic shayari ,

आशिक़ है तलबग़ार है दीदा ए यार का ,

मुलाक़ात बहाना है कोई अख़्ज़ ये नहीं ।

 

अज्ज मेरी तू है मैं फ़लक़ का आसमान ,

विसाल ए यार नहीं होगी कभी दिल को पता था ।

 

अर्जमंद न हुआ कोई शहेंशाह न हुआ ,

गोया जिसने भी की मुहब्बत तमाम उम्र तड़पा है विसाल ए यार को ।

good morning shayari

मुलाक़ात हुयी दिल भी मिले गुल भी खिले ,

फिर वक़्त शैदाई हुआ बहार लुटी गुलशन उजड़े ।

 

इश्क़ भी फ़ज़ूलख़र्ची है और कुछ भी नहीं ,

बेफ़िक़्रों के बीच हम भी वक़्त ज़ाया नहीं करते ।

 

नज़र हो फलक पे सदा इरादे रखना बुलंद ,

हौसलों से चलती है ज़िन्दगी ,

क़दम चूमेगा आसमान दो मुट्ठी की है ज़मीन दो मुट्ठी के है ज़माने भर के फ़साने सारे ।

 

इश्क़ का नाम तबाही है जलजला से भरा है दरिया ,

किनारे बैठ के लेता मज़ा , क्यों कूदा मरने को अब पायेगा सज़ा

 

हंसा चुगा मोती सारे बैठे सागर नीर ,

कबिरा तन मन खोय के तस्बीह जपे गंगा तीर ।

 

तस्बीह की लड़ी में साँस सा पिरोया है यादों का मंज़र ,

कुछ ख़्वाब अधूरे हैं कुछ अश्क़ के मोती हैं पल पल ।

 

ख़्वाब यादों के कातू कैसे ,

हाँथ जुलाहे का है करघापोनीरुई

 

आब ए रूह पर तू हिज़ाब न उढा कफ़न का ,

आसिम नहीं हूँ आशिक़ नाम है मेरा ।

 

दिल फेंक परिंदे सा फिरता है तितर बितर,

हर दिल अजीज़ की मोहब्बत भी बस दीदा ए यार है ।

 

तन्हाई भी कहाँ तन्हा होती है ,

साथ तेरी याद मेरे पल पल रोती है ।

 

न अपनाता इन्हें कुनबा न देता क़ब्र में सोने ,

मैखाना भी होता साथ तो न जाने आशिक़ कहाँ जाते ।

 

मैय्यत में मेरी आये हैं साथ लेके क़फ़न वो ,

गोया बस एक मुलाक़ात की ख़लिश भी मिट गयी ।

one line thoughts on life in hindi 

हम तो आशिक़ हैं बिना देखे भी मर सकते हैं ,

फ़िक्र उनकी करो जो मुलाक़ात के लिए ही सजाते हैं हर रोज़ नया फ़न

pix taken by google ,