तज़बीज़े बिना उतरे हो दिल की तलहटी में तुम quotes,

0
517
तज़बीज़े बिना उतरे हो दिल की तलहटी में तुम quotes,
तज़बीज़े बिना उतरे हो दिल की तलहटी में तुम quotes,

तज़बीज़े बिना उतरे हो दिल की तलहटी में तुम quotes,

तज़बीज़े बिना उतरे हो दिल की तलहटी में तुम ,

अब निकलो खुद या डूब मरो अपनी बला से

 

नज़रों से आने जाने का कोई वक़्त नहीं ,

दिल में रहने की मुनियाद मुक़म्मल तो कर ।

 

हर रात ख्यालों में तेरा आना जाना ,

रात भर पलकें खुली रखी चराग जलने दिए ।

 

आँखें मीठे पानी से चश्म ए तर थी कभी ,

दिल के समंदर ने झील के झरनों को भी खारा कर दिया ।

 

लौट आये वो परिंदे जो मेरे अपने थे ,

अब तो दिन रात है ख्यालों में उनके कौन आँखों आँखों में सेहर होने दे ।

 

नज़रों से सीधा दिल पे असर करती है ,

लाइलाज़ है बीमारी नासमझी में लोग जिसको शायद इश्क़ कहते हैं ।

 

नज़रों की खता थी जो तूने इश्क़ किया ,

हुआ बर्बाद तू ही खुद दिल क्यों आहें भरे

 

सुरमे से भरे नखरीले नैन ओ नक़्स तेरे ,

दिल का उड़ावे चैन बात सरे राह चले ।

 

न सोये खुद न तेरे ख्यालों को ही सोने दिया ,

हमने आँखों में सारी रात तेरे ख़्वाब सजा रखे थे ।

 

अब भी तजबीज लेती है नज़र सोखी ए शबाब ओ हुश्न ,

दिल है की बूढी टाँगों से भी गुलाटी मार लेता है

2line attitude shayari 

यूँ पलकें झुका कर दिल को चुराने की अदा ,

वो कसम ए वादे वफाओं के ये मौसम ए ज़फ़ा

 

तेरे लिबास में अब भी शीलन है आब ए गम का ,

गोया ग़म का मौसम शहर से गुज़रा तेरे दिल से तो अभी गुज़रा नहीं I

 

दिल मिले न मिले हाँथ मिलाते चलिए ,

सरीक ए रानाइयाँ ही ज़माने का दस्तूर है रंग जमाते रहिये ।

 

फ़क़त साँसों का चलना ही ज़िंदा होने को पुख्ता नहीं करता ,

गोया बुतों में भी जान होती है बुतों के भी दिल धड़कते हैं ।

 

दिल की धड़कनों से शेर बनते गए ,

मैं हर्फ़ दर हर्फ़ नगमो में पिरोता आया हूँ ।

whatsapp status

pix taken by google