नीले आसमान का अपना किस्सा होगा romantic shayari ,

नीले आसमान का अपना किस्सा होगा romantic shayari ,

0
6656
नीले आसमान का अपना किस्सा होगा romantic shayari ,
नीले आसमान का अपना किस्सा होगा romantic shayari ,

नीले आसमान का अपना किस्सा होगा romantic shayari ,

नीले आस्मां का अपना किस्सा होगा ,

झील पर चाँद उतर जाना तलाश ए इश्क़ का हिस्सा होगा ।

 

सज़र ने पाल रखे हैं शब् ए माहताब कारिंदे कई ,

सेहर होते ही नाप लेते हैं नीले आस्मां कई ।

 

जल रहे थे कई चराग़ फलक को तकते हुए ,

की कुछ परिंदे भी उतरेंगे अभी राह से भटके हुए ।

sad shayari 

ज़मीन है ज़र्द फ़सल ए गुल बेरंग खिज़ा है ,

कोई मुफ्लिश जलते आफ़ताबों सा फलक को तकते खड़ा है ।

 

झुलस रही है ज़मीन दो बूँद प्यास की ख़ातिर ,

किसी को बेशुमार ए इश्क़ मिला कोई रह गया तलाश ए अब्र ओ आस्मां की ख़ातिर ।

 

किसी शाम ए बज़्म में फिर मुख़ातिब ए ग़ज़ल हो ,

होठों पर तबस्सुम रंग ओ बू का गुलपोश अंजुमन हो ।

 

ये हक़ तो मुझको भी है ऐ जान ए ग़ज़ल ,

तुझको मोहब्बत लिखता जुदा हो रंग ज़माने से ऐसा कोई हुनर रखता ।

 

ज़मीन से फलक तक बाँट रखे हैं नए रंगों में परचम कई ,

ख्याल ए तकियानूसी की बुज़ुर्गियत से क्या अमन की उम्मीद न थी ।

 

सात समंदर की स्याही करके सुबह से शाम तलक ,

फलक पर आफताब ए हुश्न का अक्स बना लेता हूँ ।

 

बादलों में चाँद तारों की अटखेलियां ,

चमन के गुंचे गुंचे में गुलों की रंगरलियां ।

love shayari 

हुश्न ए महताब ने सजा रखे हैं आफ़ताब कई ,

लब पर काला तिल चेहरे पर बिखरे बाल कई ।

 

शब् ए फुरक़त ज़मीन पर उतर आया है आज,

चाँद यूँ ही सुर्ख सुरमे से क़त्ल ए आम मचाएगा आज रात कई ।

 

तमाम जश्न ए दस्तकारी और महफ़िल ए रौनक ,

जले बुझे से चरागों बग़ैर सूना है ।

 

सजा के रखे हैं शब् ए माहताब पर भी राज़ कई ,

बुरी नज़र से भी बचा लेते हैं काले दाग़ कई ।

 

किसकी यादों ने तुझको जला डाला है ,

शब् ए फुरक़त में आँखों के नीचे काला धब्बा बना डाला है ।

pix taken by google

Premium WordPress Themes Download
Download Nulled WordPress Themes
Download Premium WordPress Themes Free
Premium WordPress Themes Download
free download udemy course
download redmi firmware
Download Premium WordPress Themes Free
udemy course download free

NO COMMENTS