इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है love shayari,

इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है love shayari,

0
708
इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है love shayari,
इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है love shayari,

इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है love shayari,

इश्क़ क़ुर्बानी मांगता है,

जिगर में आग , आँख में पानी मांगता है ।

 

तक़दीर की तहरीर में वो था ही नहीं ,

जिसकी जुस्तजू में जाया की हमने तमाम उम्र ।

 

एक इबादत एक बंदगी एक ख़ुदा भी ,

बनके रहता है रहबर साथ मेरे होके जुदा भी ।

 

ज़मीन के ज़र्रे भी आफ़ताब हुआ करते हैं ,

शागिर्दों के सर पर जब उस्तादों के हाँथ हुआ करते हैं ।

sad shayari 

उठ रहे हैं धुआओं में सरारे शोले बनकर ,

आग की लपटों को मिल रही हैं हवाएं रहबर बनकर ।

 

अंधेरों में भी तन्हा होने नहीं देता ,

तेरा साया बनके रहबर मेरे साथ साथ चलता है ।

 

चाँद पर सरगम तारों पर ग़ज़ल होती है ,

फनकारों की फ़नकारी में उस्तादों की नज़र होती है ।

 

हर बात दूसरों की मुँहज़बानी ही दिल को अच्छी लगे ज़रूरी तो नहीं ,

कुछ अंदाज़ ए गुफ़्तगू में खुद की भी हाल ए बयानी होनी चाहिए ।

 

उस्तादों ने थाम रखी हैं शाम ए बज़्म हुज़ूर ,

गोया ख़ाक में मिल जाती शाम ए बज़्म ज़रूर ।

 

रात की कालिख़ भी तिलिस्माती है ,

घुप अंधेरों के बर्क़ में जाने कितने राज़ ए गुल खिलाती है ।

bewafa shayari

ज़माने से चुरा लाया था आँखों आँखों में तुझको ,

जाने किस बर्क़ में छुपायेगा दिल ए नादान तुझको ।

 

किसी की ख़ातिर कोई हँसते हँसते सूली चढ़ गया ,

ज़मीन को ख़बर कब हुयी इश्क़ की ख़ातिर आस्मां का बदल भी फट गया ।

 

ज़हन में ज़िद है जहां जला के राख़ तो कर दूँ ,

गोया ख़ाक ए ज़मीन में अपना नशेमन कहाँ छुपाऊंगा ।

 

परिंदों को ज़मीन से इन्साफ की उम्मीद नहीं ,

गोया आसमानो में आशियाना तलाश करते हैं ।

 

इश्क़ का नूर छलकता है निगाहों में तेरी ,

डूबी डूबी नज़रों में छुपा रखी है सूरत किसकी ।

 

शहर में कौन है पाक दामन बताओ यारों ,

हम भी उसके ही उसके ही कूचे में बसर कर लेंगे ।

pix taken by google

Premium WordPress Themes Download
Download Nulled WordPress Themes
Download WordPress Themes
Download Premium WordPress Themes Free
online free course
download lava firmware
Download Premium WordPress Themes Free
online free course

NO COMMENTS