दाग तेरे भी दामन के फ़फ़क के रो देगे funny shayari,

0
2801
दाग तेरे भी दामन के फ़फ़क के रो देगे funny shayari,
दाग तेरे भी दामन के फ़फ़क के रो देगे funny shayari,

दाग तेरे भी दामन के फ़फ़क के रो देगे funny shayari,

दाग तेरे भी दामन के फ़फ़क के रो देगे ,

जो देखेगे गम मेरा खुद बा खुद सुबक के सो लेगे ।

 

लिबास कैसा कैसा हिज़ाब कैसा कैसा ,

जहां में ख़ाक ए मुजस्सिम का हमाम कैसा कैसा ।

 

ज़मीन से फलक तक सजे हो जश्न के मंज़र ,

हर शख्स हो खुश हाल जहां में कोई बदहाल नहीं हो ।

bhoot wali darawni kahaniya,

सर्द रातों में ज़हर सा जलता बदन ,

मोहब्बत नासूर बनकर सर पर चढ़ी हो जैसे ।

 

खेलेंगे सुख़नवर तहज़ीब ए शायरी के फ़न ,

रात की घनेरी ज़ुल्फ़ों में चाँद तारे पिरो लेगे

 

ज़ुल्फें घनेरी में क्या काले हर्फ़ पढ़ते हो ,

तहरीर ए मोहब्बत में कोई खुर्रम नहीं होता ।

 

ज़ुल्फ़ों के गिरफ़्त से बच गए होंगे ,

तभी बुतक़दों के दर पर बैठकर तस्बीह जपते होंगे ।

 

बक्स देती है मौत डर के आके कूचे पर ,

आदमी बचता नहीं काली ज़ुल्फ़ों की गहरायी से ।

 

मैं अक़्स तेरा तू मेरी परछाई ,

दरमियान रूहों के लिबास कैसा पर्दा कैसा ।

 

कहते हैं लिबास से ओहदे का पता चलता है ,

क्या गरीब इंसान नहीं होता

 

जो सीधी दिल से गयी बात बनाये न बनी ,

गोया जो तराने होठों के सुने ज़माना गुनगुनाने लगा

 

लफ़्ज़ों के मायने बदल जाते हैं जब ,

होंठ पर आके लफ्ज़ अटक जाते हैं जब ।

 

ये लब पे तिश्नगी वो वादे वफ़ा कम थे क्या ,

जो निगाहों में ज़हर भर के सजा लाये हो मेरे मरने को ।

 

महफिलों में ग़म ए लज़्ज़त तो देखो ,

लाख रंजिश छुपाये दिलों में लब पर मुस्कान लेके आये हैं ।

 

दिल ए वीरान में टूटे खण्डहरों से सदा आती है ,

लब खुले भी नहीं और अरमानो ने दम तोड़ दिया

friendship shayari in hindi 

मुर्दों के तड़पते लब तो देखो ,

दिलों में ना जाने राज़ कितने दफ़न करके सिमटा होगा ।

 

लब खुले या खामोश रहें ,

अंजुमन में शब् ए गुल हर रोज़ खिला करते हैं ।

pix taken by google