दीन ओ मज़हब से जुदा हो तो कोई लाख सही quotes life hindi ,

0
381
दीन ओ मज़हब से जुदा हो तो कोई लाख सही quotes life hindi ,
दीन ओ मज़हब से जुदा हो तो कोई लाख सही quotes life hindi ,

दीन ओ मज़हब से जुदा हो तो कोई लाख सही quotes life hindi ,

दीन ओ मज़हब से जुदा हो तो कोई लाख सही ,

सुना है हमने गुलों की ख़ुश्बू और वतन की मिटटी में कोई फ़र्क़ नहीं ।

 

इन्सानों के शहर में जब इंसानियत की बात चली ,

कौड़ियों से ज़्यादा न आदमी की औक़ात लगी ।

 friendship shayari in hindi

इतना बड़ा शहर घूम आये गलियों गलियों रस्ते रस्ते ,

घर आके हमसे दवा माँगते हैं दर्द ए दिल की जलन के वास्ते ।

 

इक आँच जज़्बों को ज़िंदा रखती है ,

दिल को हर लम्स तेरा रूहानी सुकून देता है ।

 

हिज्र की ठिठुरन और पयमाने भर का नशा ,

सर्द रातों में आँख लग जाए तो ख़्वाब ए सनम होते हैं ।

 

ग़म ए ग़र्दिश में आँख जलती है ,

वो कहते हैं निगेहबानी ए मोहब्बत बदस्तूर बनाए रखो ।

 

मैं ही तो नहीं था राह ए मंज़िल तेरी ,

जो सुलग रहा है बिछड़ कर मुझसे मोहब्बत ए आतिशा बनकर ।

 

दोनों की खिड़कियों में दोनों की आँख लगी है ,

आज हम नहीं सोये तो तुम भी क्या सारी रात जगोगे

 

आँख भर आये उसकी बातों से ग़र ,

सोज़ ए दिल का रंग भी तो थोड़ा सुर्ख़ होना चाहिए ।

 

जाने कौन टंगा देता है आस्मां पर चाँद रात को ,

फिर चाँद तारों की चहलकदमी सोने नहीं देती है रात को ।

 

बुझा के बैठे थे चरागों को कहीं कोने पर ,

रात के चौथे पहर अरमानों को दियासलाई दिखा गया कोई ।

 

दुश्मनो की औक़ात नहीं थी आमने सामने बात करें ,

दोस्त ही सबके सब मेहरबाँ निकले ।

 

वादिये गुल में हसरतें दिल की सम्हाली नहीं जाती ,

चमन में कैसे रंग ओ बू का कारोबार चले ।

 

एक खूबरु ए इश्क़ ने तूफ़ान मचा रखा था दिल में ,

गुलों के गुंचे हसरतों में ज़ार ज़ार हुए ।

 

ज़मीन है ज़र्द बूटा बूटा भींगा भींगा है ,

फिर किसी की आँख से ज़्यादा दिल किसी का गीला है ।

 

वक़्त नहीं मिलता कुछ और तबाह करने को,

क्यों जान की दुश्मन बनी फिरती है मेरी जान तबाह करने को ।

bhutiya kahani,

फ़लक़ की जुम्बिश से शर्मा जाते हैं ,

रात की आगोश में खुलते हैं कितने राज़ ए ग़ुल

pix taken by google