तुरुप का पत्ता खेल कोई तक़दीर बदल जाए image shayari,

1
772
तुरुप का पत्ता खेल कोई तक़दीर बदल जाए image shayari,
तुरुप का पत्ता खेल कोई तक़दीर बदल जाए image shayari,

तुरुप का पत्ता खेल कोई तक़दीर बदल जाए image shayari,

तुरुप का पत्ता खेल कोई तक़दीर बदल जाए ,

सरपट दौड़े साल कोई गति अवरोधक न आड़े आये ।

 

कुछ को ओलों ने मारा कुछ भिड़ के कोहरे में मर गए ,

जो बच गए शीत लहर से वो राह ए उल्फत में खुद बा खुद

घोड़ी चढ़ गए ।

 

दिल था कटी पतंग जाने किस हाँथ लुट गया ,

कभी मीनू कभी शीनू कभी चीनू की छत पर अटक गया ।

 

रजाई के खोलके से मत झाँक सर्द हवा आती है ,

आती जाती यादें तेरी ठण्ड रातों में जला जाती हैं

 

तेरे इश्क़ का ख़ुमार है फ़िज़ाओं में ,

दिल मेरा मोहब्बत का सौदाई बन इश्क़ का व्यापार करता फिरे हवाओं में ।

horror story in hindi for child 

खुमारी इश्क़ की है तुम बोलो आज मैं सुनना चाहता हूँ ,

तुम इतनी डरी सहमी सी क्यूँ हो खुद से मैं जाननाचाहता हूँ ।

 

तेरे जलवों ने निगाहों में जश्न मना रखा है ,

तेरी इन सोख अदाओं ने मेरी नींदों ने कोहराम मचा रखा है ।

 

तराज़ू ए टशन में उतरा जो मैं ,

गोया एकदम नया खून हूँ ज़माने को तौल डालूँगा ।

 

ज़बान मेरी जले जो लब पे तेरा नाम आये ,

भरे पैमाने छलक जाएँ जो ज़िक्र ए वफ़ा में ऐसी शाम आये ।

 

सारा शहर शराब की मस्ती में डूबा था ,

हम शबनमी आँखों की गहरायी में खोये थे ।

love shayari 

शमा की थिरकन ने सारी रात बज़्म थाम रखी थी ,

सवेरा हो रहा है चराग बुझने को है ।

 

वक़्त की लाख तारीखें बदल डालो ,

ज़माने की तहरीरों में मोहब्बत का नाम लिखना अब भी बाकी है ।

 

ग़मज़दा थे जो बीज सर्द रातों में ठण्डक से ,

सुबह पत्तों के झुरमुट से नयी कोपलें बेबाक़ निकलेगी

 

हमने तो नए पुराने शिकवे भी मिटा डाले ,

तुम भी तो नया साल है ज़रा खुल के मुस्कुरा लो ।

 

गज़ब की गंध मची पड़ी है मैखाने में ,

कोई जोश ए गुल में जश्न मनाओ यारों ।

pix taken by google