अमूमन कुछ बच्चों में बचपना ही नहीं होता kids poetry in hindi ,

0
420
अमूमन कुछ बच्चों में बचपना ही नहीं होता kids poetry in hindi ,
saअमूमन कुछ बच्चों में बचपना ही नहीं होता kids poetry in hindi ,d poetry in english urdu

अमूमन कुछ बच्चों में बचपना ही नहीं होता kids poetry in hindi,

अमूमन कुछ बच्चों में बचपना ही नहीं होता ,

वक़्त की करवट उम्र से पहले बुढ़ापा थोप देती है ।

 

दौड़ जाता है कभी बचपन के पीछे बचपन ,

बचपन में इंसान की औक़ात का कोई क़ायदा नहीं होता ।

 

आसमान के चाँद में राहतें ढूढता बचपन ,

फिर तपन में भूख की वो चाँद सारा जल गया ।

 

मिटटी के भिगोने में सूरतें बदल बदल ,

बचपन संवर रहा है यहाँ कचरे के ढेर में ।

 

क़ुदरत के क़हर से घर लुटे कुछ दंगे सियासी हो गए ,

हाँथ छूटा माँ बाप का बच्चे खलासी हो गए ।

dard shayari 

थोड़ी सी जलन होती है , थोड़ा सा बुझा रहता हूँ ,

तेरे होने पे सुकून मिलता है तुझे खोने पे खफा रहता हूँ ।

 

बदलते मंज़र ये फ़िज़ाओं के सुकून देते नहीं ,

तर्क़ ओ ताल्लुक़ हो नज़र से तो सीधा जिगर में उतरो

 

वो दिलासे से सुकून देते गए ,

यहां खाली वादों से पेट भरता नहीं

 

ग़र मेरे हर मर्म की दवा तुम हो ,

फिर धुएँ सा फ़िज़ाओं में रवां रवां क्यों हो ।

 

जिगर में हादसों का गुबार समेट कर ,

मेरी नज़रों को अब खून ए सैलाब सुकून देता है ।

sad poetry in urdu about love

मुझसे रुख़्सत के बाद रोये तो नहीं ,

गोया तुम्हे आदत थी हमेशा मुस्कुराने की

 

कभी तो इश्क़ हो हम भी इक़रार करें ,

नज़रों के तक़ल्लुफ़ को कलम हर्फ़ दर हर्फ़ इज़हार करे

 

अदाएँ फ़ितना सी कमर पे बल पड़ते गए ,

इस उम्र में बत्तीसी तो कभी बाल झड़ते गए ।

 

फ़ितना ख़्याली होते नहीं जिगर यतीमो के ,

ख़्वाबों में आब ओ ग़म बेशुमार होते हैं ।

 

ख़ूबसूरती तो बहुत मिली मगर वो सादगी अब भी बाकी है ,

मोहब्बतें तो बहुत मिली मगर वो ताज़गी अब भी बाकी है ।

 

आसमान के पंछियों के साथ उड़ना चाहता हूँ ,

माँ मैं लयबद्ध होके ज़िन्दगी के गीत बुनना चाहता हूँ

pix taken by google