उधार की ज़िन्दगी bewafa shayari ,

उधार की ज़िन्दगी bewafa shayari ,

0
2080
उधार की ज़िन्दगी bewafa shayari ,
उधार की ज़िन्दगी bewafa shayari ,

उधार की ज़िन्दगी bewafa shayari ,

उधार की ज़िन्दगी,

हर रोज़ सुबह चाय की चुस्कियों से सिगरेट के कश तक खुद को बेरोज़गार खड़ा पाता हैं ,

हाँ वो दोस्तों की खाता है ।

गुलछर्रों में कमी नहीं होती कैश से ऐश तक दोस्त ही मुहैया कराते हैं ,

दोस्तों से उसके दिलों के नाते हैं ।

बेरोज़गारी का आलम इस कदर ज़हन में पसरा था ,

हर चाहने वाले उसे इन्तहा की हद तक बिसरा था ।

अपनों ने मुँह मोड़ लिया जब उसने उनका ज़िक्र छेड़ दिया ,

क्यों कर पास आता कोई जहान में हराम की नहीं खिलाता कोई ।

सिगरेट के धुएं सा ये आफत ए दौर भी टल जायेगा ,

आज भी सोचता है कोई भूला बिसरा कभी तो याद आएगा ।

hindi kahaniyan

कभी तो होगा मन की मर्ज़ियों पर अपना भी कब्ज़ा,

कभी तो मिलेगा इस समंदर को भी आस्मां में खुद का हिस्सा ।

रिश्ते नाते सभी पुराने हैं,

सबके अपने अपने किस्से अपने अपने फ़साने हैं,

लहरों संग हर धार निकल जाती है,

तब कहीं जाकर नदिया समंदर में सुकून पाती है ।

क्रिकेट की पिच पर नो बॉल का फुदकते जाना ,

फिर किसी शॉट पिच बॉल की तरह बैट से ठोका जाना ।

बॉउंड्री पार उछली बॉल से जग जाता है ।

उधार की ज़िन्दगी लेकर भी कोई चैन से सो पाता है ।

valentine day shayari 

हर शाम का रोना है यही किस्सा है रूमानियत भी मातम का हिस्सा है ,

ख़ूबरू ए बहारा में सुकून मिलता नहीं ।

डूबते सूरज का आस्मां से जूनून दिखता नहीं ,

ढलते सूरज सा ये जीवन भी एक दिन ढल जाएगा ख़ाक मिटटी का बदन ख़ाक में मिल जाएगा ।

होगा फिर नया सवेरा नयी किरणों के साथ ,

साथ तेरे भी कुछ होंगे किसी और के बाद ।

नाम होगा उसका भी तेरी महफ़िल में जिससे रोशन थी कभी महफ़िल चश्म ए चराग के साथ ।

बस यही सोच कर रहा जाता है,

उधार की ज़िन्दगी में भी जाने कैसे वज़न आता है ।

pix taken by google

Free Download WordPress Themes
Premium WordPress Themes Download
Download Best WordPress Themes Free Download
Free Download WordPress Themes
udemy course download free
download coolpad firmware
Download WordPress Themes Free
online free course

NO COMMENTS