घरों में ताले लग गए मीनारें सूनी हो गयी hindi shayari ,

0
373
घरों में ताले लग गए मीनारें सूनी हो गयी hindi shayari ,
घरों में ताले लग गए मीनारें सूनी हो गयी hindi shayari ,

घरों में ताले लग गए मीनारें सूनी हो गयी hindi shayari ,

घरों में ताले लग गए मीनारें सूनी हो गयी,

रो रही हैं सूनी सड़के सहीदों की पत्नियाँ बेवा हो गईं ।

 

रसूकदारों के दम पर चलते हैं वैश्यालय तीर्थ स्थल में ,

क्या महज़ धर्म के रक्षार्थ देवदासियां बनी होगी ।

 

बिक रही हैं लडकियां अब चौहट्टे बाजार में ,

क्या बचेगी बेटियां बेटी बचाओ अभियान से ।

 

मर गए करते मुक़दमा दादा, पोते पोती मर गए ,

जाने कितने मासूम कानूनी अव्यवस्था के चलते वक़्त से पहले सूली चढ़ गए ।

sad shayari

अबला नारी की ज़िम्मेदारी उठाता कौन ,

इसलिए गरुण पुराणों के हिसाब से क्या नारी को सती करवाया जाता था ।

 

कहने को तो सबके सब भगवान् के अवतार हैं ,

सारे जहान में इंसान का बस इंसान से न कोई सरोकार है

 

जब तक ज़िंदा था रोज़ जलता था ,

मरके जिस्म के साथ इकठ्ठा लट्ठा भी जल गया ।

 

सूखी फसलों के साथ किसानों के किस्से रोज़ छपते हैं ,

आज फिर कोई मज़बूरी में मर के अख़बार की सुर्ख़ियों में छप गया ।

 

कलयुग हो या त्रेता द्वापर ,

जब रामराज्य में भटकी वन उपवन औरत तेरी यही कहानी कुछ अछूत सी कुछ कही सुनानी ।

 

हमारी तारीफ़ किसी तार्रुफ़ की मोहताज़ नहीं ,

हमारी मौजूदगी से ही महफिलों की शमाएँ रोशन होती हैं ।

 

अपनी बर्बादियों की तोहमत इश्क़ पर न लगाइये ,

बिना बर्बाद हुए भी हुआ है किसी का नाम वो नाम बताइये ।

whatsapp status in hindi 

मैं जली जली हूँ सुबह की सोहरत से ,

मेरे हिस्से के चरागों में अभी अँधेरा है ।

 

सभी के हिस्से के थे जो सुकून हमने बाँट दिए ,

ख़ुद की ख़ातिर अपनी पलकों में हमने खार सजा के रखे हैं ।

 

आज भी होके कभी दिल से तू जब गुज़रता है ,

ताज़े हरे ज़ख्मो के टाँके टूट जाते हैं ।

 

आशिक़ों को इश्क़ करने की सजा भी मिलनी चाहिए ,

न हो क़त्ल ए आम न सही गोया कोहराम मचना चाहिए ।

pix taken by google