तुझसे मोहब्बत की ख़लिश तुझसे राब्ता ए ग़म love quotes hindi ,

0
466
तुझसे मोहब्बत की ख़लिश तुझसे राब्ता ए ग़म love quotes hindi ,
तुझसे मोहब्बत की ख़लिश तुझसे राब्ता ए ग़म love quotes hindi ,

तुझसे मोहब्बत की ख़लिश तुझसे राब्ता ए ग़म love quotes hindi ,

तुझसे मोहब्बत की ख़लिश तुझसे राब्ता ए ग़म ,

तू चला ग़र अपनी गली तेरे बिना भी खुश हैं हम ।

 

हश्र कौन जानता है मोहब्बत के मारो का,

किसी को राह ए क़ाफिला नहीं मिलता कहीं जनाज़े को काँधा नहीं मिलता ।

 

राह ए खाकसारी हो फ़ितरत जिनकी ,

वो तकदीरों से गिला शिक़वा नहीं करते ।

shayari in hindi

तुमने अंजाम ए मोहब्बत से आगाह किया था हमको,

हम ही ग़रूर ए इश्क़ की बदगुमानी में निकले  ।

 

गुंचा गुंचा को फ़िक़्र थी ग़ुल की ,

बागबान ने ही अंजुमन को बेसहारा छोड़ दिया ।

 

ख़्वाबों के ख़्याली जाम से क्या प्यास बुझेगी ,

देखा जमाल ए यार तलफ़्फ़ुस बिगड़ गया ।

 

उतरेगा रोशनी में हर लिबास धीरे धीरे ,

रात की कालिख के राज़ ए ग़ुल और भी हैं बहुत गहरे ।

 

तुम्हीं लिखो की हम लिखें हम अपना हाल दिल क़लम लिखें ,

जब गर्दिश ए सुखनवर हों हम कैसे तुमको सनम लिखें ।

 

उतरेगा जुनून तेरे सर से भी मोहब्बत का ,

हमने ज़माने के सुखनवर बहुत खूबरु देखे

 

तेरे इश्क़ की ख़लिश ने क़लम को बदगुमाँ कर दिया क़ाफ़िर ,

तेरे हुश्न की तारीफ में भी कभी कभी लम्बे पुल बाँध देती है।

 

दिल में ख़लिश न रख शुक्र मना,

साबुत बच के आये हो हुश्न वालों के सनमख़ाने से ।

 

उसके ख़्वाबों पर नींदों का पहरा ,

ख़लिश इस बात की है नींदों को भी लूट लेता है वो ।

 

कितने क़िरदार बदल जाते हैं उम्र के रास्तों पर,

कुछ एक रिश्ते हैं जो साथ चलते जाते हैं ।

 

एक वजूद की तलाश ता उम्र की रही ,

ख़लिश इस बात की है कि मुझको खुद का वजूद न मिला ।

 

तेरा मिलना न मिलना थी बस तक़दीर कि बातें ,

तेरा मिलकर बिछड़ जाना ज़माने कि अदावत है ।

 

मंज़िलें अलग अलग हों कोई ख़लिश भी नहीं ,

क्या कम था साथ जो लम्हों का गुज़रा अच्छा गुज़रा

kulbhata village real story,

जामा न पहना रूहों को मज़हबी फूलों का ,

सहराओं के आगे हर जिश्म बेलिबास होता है ।

pix taken by gogle