तेरे ख़्वाबों के शिकंजे में दम घुटता था good night shayari,

1
494
तेरे ख़्वाबों के शिकंजे में दम घुटता था good night shayari,
तेरे ख़्वाबों के शिकंजे में दम घुटता था good night shayari,

तेरे ख़्वाबों के शिकंजे में दम घुटता था good night shayari,

तेरे ख़्वाबों के शिकंजे में दम घुटता था ,

नींद से जागे तो थोड़ी राहत है ।

अक्सर मेरी तन्हाइयों में तेरा ही ज़िक्र होता है ,

याद आती है तेरी अब भी मगर वो फ़िक़रे नहीं होती ।

खनकते बर्तनों से दिलों के टूटने ज़िक्र होता है ,

 good morning shayari

फर्स पर फैले काँच के टुकड़ों से जिस्म ज़ख़्मी कम दिलों पर घाव ज़्यादा हैं

मगर ज़ख्मों की परवाह अब किसको कहाँ है ,

गुज़र जाता हूँ बेफिक्र होकर उन टूटे लम्हों से ।

वो उल्फ़त ए दौर अपना था ,

अब दौर ए तग़ाफ़ुल यहाँ है ।

कभी नोक झोंक के लम्हे थे अपने ,

अब तन्हाइयों में तेरी यादें भी अपनी हैं ।

अधूरे ख्वाब अधूरे ज़ाम अधूरे लब पर अधूरी प्यास अपनी है ।

अब भी वक़्त गुज़र जाता है लम्हा लम्हा,

हर लम्हे में अब वो बेशब्री नहीं होती

तुझको होती होगी राह चलते काँटो की परवाह ,

मुझको तेरे तल्ख़ नज़रों के तीरों की परवाह नहीं होती ।

वो मेज़ पर रखा है प्याला है जिस पर तेरे सुर्ख लबों की लाली ,

 

साथ ही एक ज़ाम उल्टा है जो कल भी खाली था आज भी है खाली ।

क्या सेज़ नहीं सजती क्या महफ़िल ए रानाई नहीं होती ,

सजती है शाम पहले से बेहतर बस चरागों के उजालों के पार

दिलों की ख़ुशनुमायी नहीं होती ।

मेरी हर शाम पर रहता है ग़म ए ग़ुबार का असर ,

फिर बढ़ता जाता है अँधेरे में तुझसे तक़रार का क़हर

फिर सेहर होती है ग़ुल खिलते हैं ,

रोज़ नए ग़ुल अंजुमन में गुंचा ए ग़ुल से मिलते हैं ।

 

दिल में इक ख़लूस सा रहता है ,

गोया मोहब्बत रूहानी सुकून के सिवा कुछ भी नहीं

 

क्या ख़ाक जलाएगा ज़माना,

दिल जलों की राख में भी तबाही ए सैलाब भरा होता है ।

 

ऐसी कौन सी जागीर लेकर के जाएगा मेरे भाई ,

दो पल चैन ओ सुकून के भी तो जी लेता ।

 hindi shayari

ज़मीन ए ख़ाकसारी में उम्रें ज़ाया की ,

फिर उसी ख़ाक में मिल कर के रूहों को सुकून आया ।

pix taken by google