दीदा ए यार से आँखों को सुकून मिलता है dard shayari ,

0
393
दीदा ए यार से आँखों को सुकून मिलता है dard shayari ,
दीदा ए यार से आँखों को सुकून मिलता है dard shayari ,

दीदा ए यार से आँखों को सुकून मिलता है dard shayari,

दीदा ए यार से आँखों को सुकून मिलता है ,

रूह में अब भी एक प्यासा समंदर ठहरा हो जैसे ।

 

आँखों में किरकिरी सी बनके चुभती हैं तेरी यादें ,

ये बात और है आँसू तो बहुत बहते हैं बहती नहीं तेरी यादें ।

love shayari

फ़नाह ए इश्क़ तबीयत ए रंगीन ज़िन्दगी नासाज़ उम्र की दहलीज़ पर बैठे परिंदे ,

मयारों से चिपके अब भी वादी ए जहाँ से वादे वफ़ा की उम्मीद करते हैं ।

 

राज़ सीने में दफ़न तन पर ओढ़े क़फ़न ,

लाश कहती है सनम , हम पर भी तो कर निगाह ए करम

 

माना की सीने में फोरस्ट्रोक इंजन जैसा कुछ धड़कता नहीं ,

पर अब भी खड़खड़ाता सा दिल महसूस होता है इस उम्र ए दराज़ में ।

 

नक़ाब से झाँकती आँखों के इशारे होते हैं ,

कसम ख़ुदा की हिजाब ही जाने कैसे कैसे अरमान बेनक़ाब होते हैं ।

 

यूँ तो सब मायाजाल है ,

तू मैं मायाजाल का हिस्सा है बाकी सब महज़ किस्सा है ।

 

इश्क़ में जीता रहा मरता रहा तब तक ,

अब नाम की मुफ़्लिशी है बेताज़ बादशाह हैं अपनी तन्हाइयों के ।

 

तपिस ग़मों की है दिल के ज़ख्मों को धो देगी ,

आँखों के पानी में नमक है दर्द से राहत देगा ।

 

यादों के पैंडुलम पर मटकते अँखियों के अंगार ,

चाँद की टाँग पर लटक कर रात पार करने की ज़िद ,

उफ़ ये अज़ाब ए मोहब्बत जान लेगी अब तो ।

funny shayari , 

बिख़री ज़ुल्फ़ों में उलझी सी ज़िन्दगी ,

बोझिल सी बहुत काँधों पर महसूस होती है ज़िन्दगी

 

हर बात पर कसम खाते हैं ऐसे ,

झुकी पलकों से झूठ बोलते सरमा रहे हों जैसे ।

 

वो जब निकले यादों की गली से क्या खूब निकले ,

आँखों को झूठ मूठ का कुचलते मसलते निकले ।

 

मोहब्बत क़ारोबार की तरह करते हैं ,

मरता है कोई मर जाए मोहब्बत की बला से ,

फ़र्क़ पड़ता नहीं किसी को हम तो आशिक़ों के कारवाँ से चलते हैं ।

pix taken by google