लफ़्ज़ की तासीर का अपना ही है सुरूर dard shayari,

0
1910
लफ़्ज़ की तासीर का अपना ही है सुरूर dard shayari,
लफ़्ज़ की तासीर का अपना ही है सुरूर dard shayari,

लफ़्ज़ की तासीर का अपना ही है सुरूर dard shayari,

लफ़्ज़ की तासीर का अपना ही है सुरूर ,

कुछ बेमुराद क़ातिल ए असरार का है कसूर

 

लब पर नाम हो ख़ुदा का दिल में बंदगी हो रब की ,

इश्क़ हर दुआ में बस दिल से महसूस किया जाता है

horror story in hindi

इश्क़ में पड़ा जब ग़ालिब पण्डितों ने कहा धर्म ईमान से गया ,

अब शायरों की सोहबत में है आगे अल्लाह ही खैर करे ।

 

नहीं जीना हमें टुकड़ों में हम पुराने वक़्त सही ,

नयी सूरज की किरणों में गर्द ए ग़म को साफ़ करेगे ।

 

बड़ी नज़ाक़त से कुचला दबे अरमान सीने के ,

पुराने वक़्त सा गुज़रा न ठहरा न पुछा न भाला

 

एक जहान से गुज़रने का बहाना था ,

तुझ में मेरा, मेरा तुझ में ठिकाना था बसेरा टूट गया पंछी उड़ गया ।

 

कल्पवाश है धीज में गंगा काहे रोये ,

पापी पुण्यी सब धुले कछु न अन्तर होये ।

 

झील सी आँखों में डूब मरा शायद ,

मेरे देखने में इतनी गहरायी तो न थी ।

 

सच्ची मोहब्बत है या चाँद को खीसे में धर के ,

ग़ालिब सी लोंदी लोकने का ख़्याल है ये इश्क़ ।

 

तमाम उम्र ज़राफ़त ए इश्क़ का रोना रहा ,

नज़र टिकी रही आस्मां में दिल ज़मीन पर बिछौना रहा ।

 

तेरे इश्क़ की ज़राफ़त क्या कहूँ ज़ालिम ,

सीना फफकता दिल जिगर ख़ामोश बैठे हैं ।

 

हर रात का इंतज़ार करता है चाँद भी ,

शब् ए बारात न होती तो कौन देखता मेहबूब सी दमकती चाँदनी

 

भीड़ में तन्हा फिरी ग़ालिब की शायरी ,

जनाज़े में मची धूम ग़ज़ल सब के लब पर थी ।

 

ग़ालिब हुआ फ़क़ीर तो इश्क़ उसका ख़ुदा था ,

आशिक़ी थी इबादत सामने मेहबूब खड़ा था ।

 

जश्न ए ग़ालिब में लुटी शायरी बे आबरू हुआ इश्क़ ,

इश्क़ पर ज़ोर नहीं कोई ख़ुदाया खैर नहीं ।

2line attitude shayari 

क्या खता हुयी जो ग़ालिब से प्यार करने निकले ,

बाजार सर्द था इश्क़ का गोया अपनी शायरी भी लुटा बैठे ।

pix taken by google