spirit hacking a science fiction horror story,

0
1319
spirit hacking a sci fi fiction horror story,
spirit hacking a sci fi fiction horror story,

spirit hacking a science fiction horror story

दुनिया जहां विनाश के कगार पर पहुंच चुकी थी , साइबर अटैक ने सम्पूर्ण मानव जाति पर कब्ज़ा

जमा रखा था , कहने को तो सम्पूर्ण मानव जाति मशीनों की गुलाम हो रही थी मगर इसके पीछे

कुछ ख़ास तरह के पिशाचों का दिमाग चल रह था , जिनका एक मात्र उद्देश्य था सम्पूर्ण

मानवजाति का विनाश और नए सिरे से ईश्वर के विरुद्ध जंग का खुल्लम खुल्लम एलान , हो चूका

था , इंसान की प्रजाति को ख़त्म करने के लिए किसी भी हद तक गिर सकते थे ये पिशाच , वो

किसी भी व्यक्ति जानवर या मशीन का रूप धारण कर सकते थे , सारा का सारा शहर खंडहर में

तब्दील हो चुका था जहां एक ओर पिशाचों की फ़ौज ढूंढ ढूंढ कर हर एक इंसान को ख़त्म कर रही

थी वहीँ , वहीँ कुछ शख्स ऐसे भी थे , जिन्हे वो नष्ट नहीं कर सकते हैं , और वो थे कंप्यूटर

शॉफ्टवेयर के प्रोग्रामर्स जिन्होंने ने डेविल्स के लिए प्रोग्राम डिजाइन किया था , जो की अब पूर्णतः

पिशाचों के कण्ट्रोल में था जिसके एक इशारे पर पिशाच सम्पूर्ण मानव जाती के साथ साथ हिंसक

जानवरों पर भी नियंत्रण कर सकते हैं ।

cut to ,

शहर का एक खँडहर जिसकी तरफ बढ़ते हुए कुछ इंसानी कदम , जो खंडहर की तरफ तेज़ी से

भागते हैं और खंडहर में जाकर छुप जाते हैं , तभी पीछे से पिशाचों की फ़ौज आ धमकती है , वो एक

एक इंसान को ढूंढकर मारना सुरु कर देते हैं , दृश्य इतना भयावह है की जिसकी कल्पना भी कर

पाना मुमकिन नहीं है , किसी के पेट में सीधा नुकीले नाखूनों वाला हाँथ तो किसी को धारदार

हथियार से सीधा दो टुकड़ों में काट कर फेंक देते थे , पिशाच किसी किसी इंसान को तो तड़पने का

भी मौका तक नहीं दे रहे थे , वहीँ फर्श में कार्पेट के नीचे एक शख्स ऐसा भी था , जिसके पास जाते

ही पिशाच ने अपना हाँथ पीछे खींच लिया , वो नहीं मार पाया उस शख्स को , वो शख्स था रवी जो

इस सब विनाश के पीछे का प्रोग्रामर था , उसके पास एक ऐसी चिप है जो की किसी भी पिशाच को

घुटने टेकने पर मज़बूर कर देती है , खैर इस बार तो रवी ने अपने साथ कुछ लोगों को बचा लिया

खुनी दरिंदों से मगर हर बार बचा पाना नामुमकिन है । रवी उन बचे हुए इंसानो के साथ जंगल के

रास्ते में आगे बढ़ रहा होता है ।

cut to ,

वहीं दूर जंगल के रास्तों में भटकते भटकते रवी और उसके साथी बहुत आगे निकल चुके हैं , तभी सामने उन्हें एक उजड़ा

हुआ गाँव दिखाई देता है , रवी और उसके साथी जंगल की तरफ दौड़ लगा देते हैं , मगर उस गाँव में इंसानो का नाम ओ

निशान नहीं मिलता है , शाम ढलने लगी है धीरे धीरे अँधेरा चारों तरफ फैलने लगा है , कच्चे कच्चे मकानों की अब

दीवारे बस बची हैं , ऊपर की तरफ से कोई भी हिंसक जानवर कभी भी हमला कर सकता था , फिर भी रवी और उसके

साथियों ने उन मकानों में रात गुज़ारने का फैसला किया , घर के कुछ दरवाज़े तो सही थे मगर कुछ दरवाज़ों पर लकड़ी

की बल्लियों को आड़ा तिरछा करके लगाना पड़ा , ताकि हिंसक जानवर उनपर हमला न कर दें , हालाँकि उनके पास रखी

माउज़र की मैगज़ीन में अभी भी बहुत गोलियां थी , जिन्हे चलाने की खुशकिश्मती उन्हें अब तलक नसीब नहीं हुयी थी ।

cut to top angle view ,

चांदनी रात है नीचे का नज़ारा बेहद शांतिपूर्ण है , झाड़ियों से कहीं कहीं सियार और लोमड़ी के होने की सुगबुगाहट मिलती

है , तभी मकान में एक भयानक चीख गूँज जाती है , सभी सियार और और लोमड़ी जंगल की तरफ दुम दबा कर भागने

लग जाते हैं , रवी के साथी हल्ला मचाने लग जाते हैं शायद कोई भयानक जानवर किसी एक साथी को शिकार बना लिया

था, रवी अपने सभी साथियो को खामोश रहने की सलाह देता है , तभी वहाँ से बहुत सारे आदमखोर बाघों का झुण्ड

गुज़रता है जो उन लोगों की तलाश कर रहा होता है , और उनमे से एक आदमखोर बाघ की नज़र रवी के ऊपर पड़ती है ,

वो रवी की तरफ खौफनाक नज़रों से देखता है तभी रवी के अंगूठे में लगा हुआ टिनी रोबोट उस बाघ की नज़रों में ब्लू रेज़

डालता है और बाघों का झुण्ड वहाँ से दुम दबाकर भाग जाता है , रात और ख़ौफ़नाक होती जाती है , रवी के सभी साथी

सो जाते हैं , रवी के हाँथ में लगा टिनी भी पलके झपकने लगता है , रवी उसको देखकर एक हल्की सी स्माइल देता है ,

तभी रवी अतीत के बीते लम्हों में गोते लगाने लगता है ।

cut to story in flash back ,

ठण्ड के दिन थे सुबह की ८ बज चुके थे , कोहरे को चीरता हुआ सूरज आसमान पर जगह बनाने की जद्दोज़हद में लगा है

, मगर रवी की हिम्मत आज बिस्तर से उठने की नहीं हो रही थी , और टिनी (एक मिनी रोबोट ) जिसे रवी ने अपने

अंगूठे में जगह दे रखी थी , रवी एक मल्टी नेशनल कंपनी में बतौर शॉफ्टवेयर डेवलपर की हैसियत से काम करता है ,

कंपनी में कुछ गड़बड़ चल रही थी , शायद इसी लिए आज रवी उठने में नानुकुर कर रहा था , तभी रवी के मोबाइल में

मैसेज आता है , इट्स अर्जेंट फ़ौरन ऑफिस पहुंचे , रवी बॉस को गाली देता है , आनन् फानन में कार उठाता है , और

ऑफिस का रुख करता है , रास्ते से ही आसमान का मिजाज़ बहुत गंदे तरीके से बदल रहा था , ऐसा लगरहा था जैसे की

बहुत बड़ी मनहूस घटना घटने वाली है , रवी गाड़ी से उतरता है , ऑफिस के अंदर जाता है , सारा का सारा स्टॉफ बहुत

परेशान लग रहा था , ऑफिस में लगे स्पीकर में अनाउंस होता है की आपके सभी सिस्टम डिवाइसेस पर असाधारण

वाइरस का आक्रमण हुआ है जो की मानव जाती के लिए बहुत बड़ा खतरा है , जिसे सुधार पाना मुश्किल ही नहीं

नामुमकिन भी है तभी , हाल में लगे स्क्रीन के साथ स्पीकर भी किरकिराहट के साथ बंद हो जाता है , और हाल की लाइट

बंद हो जाती है , बाहर घनघोर अँधेरा छा जाता है , दिन में ऐसा प्रतीत होता है जैसे की अमावश्या की रात हो , सिस्टम

के साथ किसी ने जैसे सूरज को भी हैक कर लिया हो तभी एक विमान बिल्डिंग के बाजु में आकर रुकता है उसमे से बहुत

सारे दरिंदे धड़ा धड़ उस बिल्डिंग के भीहर घुसते हैं और रास्ते में जो भी आता है वो उसे ख़त्म करते हैं , बचाव में

बिल्डिंग के सिक्योरिटी गार्ड्स गोलियां चलाते हैं , जिनका उन दरिंदों पर कोई असर नहीं होता है , जो दरअसल दरिंदे

कम पिशाच ज़्यादा थे , वो वहाँ मौजूद हर एक व्यक्ति को चुन चुन कर मार रहे थे । ये सब सोचकर रवी अचानक से

चीख उठता है ,

horror story in hindi 

cut to ,

तभी वहाँ मौजूद आदमखोर बाघ उनकी आहट पा जाते हैं , और बेहद खतरनाक दहाड़ के साथ वहाँ छुपे इंसानो को ढूढ़ने

में लग जाते हैं , रवी एक बार फिर अपने साथियों को लेकर वहाँ से भागता है , आगे आगे रवी और उसके साथी भागते हैं

पीछे पीछे आदमखोर बने बाघ भाग रहे होते हैं ,आदमखोर बाघों और रवी के साथियों के बीच कुछ ही फासला बचता है ,

तभी सामने एक दुर्गा जी के विशाल मंदिर से घंटों की आवाज़ और तीव्र शंखनाद सुनायी देता है , रवी और उसके साथी

जैसे ही मंदिर के प्रांगण में दाखिल होते हैं , मंदिर का दरवाज़ा बंद हो जाता है , तभी मंदिर के प्रांगण में एक साधु का

आगमन होता है , उसके पीछे कई अनेक साधु और गाँव के लोग भी आ जाते हैं , साधु रवी और उसके साथियों को

समझाते हैं की डरो मत , यह जगह पूरी तरह से सुरक्षित है , यहां पिशाचों का आक्रमण नहीं होगा , साधु की बात

सुनकर रवी और उसके साथी हंस देते हैं , रवी कहता है क्या महाराज धन्य हैं आप ज़माना कहाँ से कहाँ जा रहा है और

आप भूत पिशाच की बात कर रहे हैं , सभी रवी की बात पर शांत रहते हैं मगर साधु को रवी की बात पर गुस्सा नही

आता है , रवी भी अब साधु की बात चुप चाप सुनने लगता है , साधु उन्हें समझाते हैं की कैसे उन्होंने अभिमंत्रित जल

का एक घोल तैयार किया है जिसे अगर इन पिशाचों के शरीर में किसी तरह से प्रवेश करा दिया जाए तो ये पिशाच जल

कर राख हो जायेगे , अब समस्या ये थी की की इस जल को पिशाचों के जिस्म में प्रविष्ट कराएगा कौन , रवी की नज़र

अपने अंगूठे में लगे हुए टिनी रोबोट पर जाती है , टिनी घबरा जाता है नही नही मैं नही कर सकता , बोलता है और आँखें

बंद कर लेता है , साधु बोलते हैं हमारे पास आदिवासी कबीले के कुछ जाबांज़ योद्धा है , जो इस काम में निपुण हैं मगर

इनसे हम जंगली जानवरों पर तो काबू पा जायेगे , मगर असली समस्या है पिशाच की माया में फंसे उन आदमखोर

जानवरों की जो बिला वजह इंसानो का शिकार कर रहे हैं ।

साधू की बात सुनकर रवी और उसके साथी बोलते हैं ये मामला हम सुलझा लेंगे इसके लिए हमें साथ में काम करना

पड़ेगा , रवी अपने साथियों को बोलता है कम ऑन गाइज़ अब वक़्त आगया है हम इस दुनिया में फैली अराजकता के

खिलाफ लड़ें और और सम्पूर्ण मानव जाति को बता दें की हम एक होकर किसी भी आपदा से लड़ सकते हैं चाहे वो

ज़मीनी हो या आसमानी , रवी की बात सुनकर वहाँ मौजूद लोगों के चेहरे खिल जाते हैं , रवी अपने दोस्तों को बोलता है

आप सभी कंप्यूटर के अच्छे जानकारों में से है, और आपको पता है की ये साइबर अटैक के साथ साथ पिशाची अटैक भी

है , जिससे हमें विज्ञान और अध्यात्म दोनों को साथ में लेकर लड़ना होगा , कितने गैजेट्स हैं आपके पास निकाल

दीजिये , और रवी टिनी को अपने अंगूठे से निकाल कर आज़ाद कर देता है और आदेश देता है , आज तुम्हे टिनी वो

करके दिखाना है जिसके लिए हमने तुम्हारा निर्माण किया था , टिनी वहीँ चुप चाप बेहोश होने नाटक करने लगता है ,

रवी एक बार पुनः उसे दो उँगलियों से पकड़ कर उठाता है , टिनी बोलता है प्लीज़ मुझे मत घसीटो इस इंसान और शैतान

के लफड़े में मैं अभी बहुत जीना चाहता हूँ ,  रवी बोलता है तुम मशीन हो अगर तुम मर भी गए तो हम तुम्हे फिर बना

लेंगे , मगर इंसान को दुबारा नहीं बनाया जा सकता , टिनी की खोपड़ी में थोड़ा थोड़ा मामला समझ में आता है , है तो वो

लेटेस्ट रोबोट २.२ का वर्जन मगर अब भी उसमे इंसानी जज़्बातों को समझने में थोड़ा कमी थी , या हो सकता है की

अपने साइज़ की वजह से वो डरपोक होने का दिखावा करता हो , खैर आखिर कार टिनी रोबोट रवी की बात मान जाता है

, टिनी को याद आता है उसके अतीत का गौरव कैसे द्वितीय अंतरिक्ष युद्ध में उसके पूर्वजों ने इंसानियत को बचाने के

लिए हैरत अंगेज़ प्रदर्शन किया था , टिनी अचानक से उछल पड़ता है , और बोलता है मैं टिनी रोबोट मुझे मेरे पूर्वजों की

बहादुरी का वास्ता मैं इन हराम खोर शैतानो के छक्के छुड़ा दुगा , तभी रवी उसकी गैलिस को पीछे से पकड़ कर टिनी को

अपनी नज़रों के सामने लाता है और बोलता है बेटा टिनी ये शेखचिल्ली के ख्वाब देखने से कुछ नहीं होगा , तुम्हे अब

कुछ करके दिखाना होगा ,

sachi darawni kahaniya,

टिनी बोलता है जो हुक्म मेरे आका , रवी बोलता है सभी के गैजेट्स चेक करो और पता लगाओ की क्या ये किसी काम के

है , इनसे तुम क्या क्या करवा सकते हो , टिनी रोबोट तुरंत सब गैजेट्स चेक करता है , और बोलता है ये सब तो ठीक

नहीं हैं मगर में इनसे कुछ अपनी ही तरह के मगर उपयोगी अपने क्लोन्स बना सकता हूँ , और कुछ का उपयोग हम

ऐसी ट्रैकिंग डिवाइस बनाने में कर सकते हैं जिससे हम यही बैठे जानवरों के सहारे , आदमखोर बने जानवरों पर अटैक

कर सकते हैं , रवी बोलता है कोई ऐसा उपाय नहीं है की आदमखोर जानवरों को बिना मारे , कण्ट्रोल में किया जा सके ,

टिनी जवाब देता है बिलकुल है , मगर उन्हें उसके लिए काफी समय तक बेहोश रखना पड़ेगा , इसके बाद ही वो जानवर

रिकवर हो पाएंगे , इसके बाद अगर हम उन पर अपना तंत्र मन्त्र वाला गैजेट इंजेक्ट कर दें तो हम उनका उपयोग

पिशाचों के खिलाफ युद्ध में भी कर सकते हैं ,

cut to , 

घनघोर जंगल के बीचो बीच रवी अपने साथियों और आदिवासी कबीले के योद्धाओं के साथ आगे बढ़ा चला जा रहा था की

तभी उन्हें एक बाघ का जोड़ा दिखाई दे गया , कबीले के योद्धाओं ने कुछ विशेष तरह की आवाज़ निकाली जिससे बाघ का

जोड़ा भ्रमित हो गया इसी बीच टिनी रोबोट ने तंत्र मंत्र से अभिमंत्रित गैजेट दोनों बाघों के जिस्म में डाल दिया अब बस

वो गैजेट्स की टेस्टिंग बाकी थी, अभी दोनी बाघ बेहोश हुए ही थे की , तभी वहाँ झाड़ियों के पीछे से पिशाचों द्वारा भेजे

गए आदमखोर बाघ की एंट्री होती है , वो आदमख़ोर बाघ रवी और उसके साथियों की तरफ लार टपकाता हुआ भयानक

नज़रों से देखता है , और उन पर अटैक करने ही वाला होता है की तभी जिन बाघों पर टिनी ने गैजेट्स बाँधा था वो होश

में आजाते हैं , और टिनी के एक आदेश पर उन आदमखोर बाघों की गर्दन पर टूट पड़ते हैं , और एक झटके में उन्हें वहीँ

पटक के मार देते हैं , उनके मरते ही आदमखोर बाघों का जिस्म राख में तब्दील हो जाता है और उनके अंदर प्रविष्ट दुष्ट

आत्मा आसमान के बादलों में खो जाती है, रवी और उसके साथियों के लिए बहुत बड़ी उपलब्धता थी , रवी अपने साथियों

के साथ जंगल में आगे बढ़ता ही जा रहा था और तरह तरह के हिंसक जानवरों को अपने वश में कर रह था , उन्होंने कई

हांथियों के झुण्ड , बाघ शेर तेंदुआ और चीता जैसे हिंसक जानवरों को गैजेट्स इंजेक्ट करके अपने वश में कर लिया था ,

और दुर्गा मंदिर के बाहर खतरनाक जानवरों की विशाल सेना खड़ी कर ली थी , 

cut to , 

रवी और उसके कारनामो की खबर जब अंतरिक्ष में बैठे स्पिरिट हैकर्स तक पहुँचती है , वो आगबबूला हो जाते हैं , वो

फ़ौरन बहुत सारे स्पेस शिप के साथ धरती में मौजूद उस दुर्गा मंदिर पर आक्रमण कर देता हैं , मगर जैसे ही वो उस

जगह पर पहुँचता है , मंदिर के इर्द गिर्द का पवित्र वातावरण वायुमंडल में घुले मंत्रोच्चारण के स्वर और शंखनाद की

ध्वनियों से उसकी माया से तैयार स्पेस शिप चकना चूर होने लगते हैं , और टुकड़ों में बिखरने लगते हैं जिससे उनमे

मौजूद पिशाच मन्दिर के चारों और की ज़मीन में खड़े जानवरों के द्वारा मार दिए जाते हैं , ये सब देखकर स्पिरिट हैकर्स

और क्रोधित हो जाता है , वो मंदिर के प्रमुख द्वार पर पहुंच कर मंदिर के अंदर मौजूद लोगों को खुली चेतावनी देता है ,

तभी टिनी छुपते छुपाते तंत्र मात्रा से बना गैजेट स्पिरिट हैकर की जिस्म में पंहुचा देता है , मगर स्पिरिट हैकर को कुछ

नहीं होता वो टिनी की ये हरकत भांप जाता है और टिनी को एक ऊँगली से धकेलता हुआ , बोलता है , जब तुझे बनाने

वाले इंसान मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पाए टीन के टपरे फिर तू बस एक माचिस की डिब्बी है मेरे लिए , तभी टिनी जम्प

लेकर स्पिरिट हैकर के नाक में एक पंच मारता है , और सीधा मंदिर के दरवाज़े से भीतर घुस जाता है , मंदिर के अंदर

पहुंचते ही स्पिरिट हैकर की शक्तियां काम करना बंद कर देती हैं , तभी साधू महराज आदेश देते हैं किस इस नीच का

वध माँ जगदम्बा भवानी के त्रिसूल से ही हो सकता है , रवी फ़ौरन त्रिसूल उठाता है और स्पिरिट हैकर की तरफ बढ़ता है

स्पिरिट हैकर दर के मारे नहीं नहीं चिल्लाता रह जाता है , और रवी उसके सीने में देवी माँ का त्रिसूल अंदर तक धंसा देता

है , इधर स्पिरिट हैकर का जिस्म राख में बदलने लगता है उधर उसके साथ उसकी सेना भी राख में तब्दील होकर हवा में

गायब हो जाती है , और आस्मां में छाये काले बादल भी गायब हो जाते हैं और सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड सूरज की नयी रौशनी से

प्रज्ज्वलित हो जाता है ।

the end 

pix taken by google wallpaper 

 

 

 

 

 

 

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers