अंदाज़ ए गुफ़्तगू ये लर्ज़िश ए बयान कहता है mohabbat shayari ,

0
321
अंदाज़ ए गुफ़्तगू ये लर्ज़िश ए बयान कहता है mohabbat shayari ,
अंदाज़ ए गुफ़्तगू ये लर्ज़िश ए बयान कहता है mohabbat shayari ,

अंदाज़ ए गुफ़्तगू ये लर्ज़िश ए बयान कहता है mohabbat shayari ,

अंदाज़ ए गुफ़्तगू ये लर्ज़िश ए बयान कहता है ,

इश्क़ की आग लगी हो न हो फ़िज़ा में यूँ ही धुंआ ये उठा तो है ।

 

मोहब्बत के सारे मायने बदल जाते ,

गोया तब्दीलियत के मिजाज़ तबीयत से समझ में आते ।

 

मोहब्बत की रहमत इस कदर बरस रही है मुझ पर ,

दिल के छाले लफ्ज़ बनकर नग़मों में बह रहे हैं झर झर।

 

नज़र में उतरे हों जिगर में उतरो तो सही ,

बस ख़्याल ए यार की चाहत से इश्क़ के नायाब मोती मिलते नहीं ।

shayari hq

इस मंज़िल ए मुक़ाम पर किस हाल में पहुंचे हैं साहेब ,

दिल ज़ार ज़ार हर ज़ख्म रेज़ा रेज़ा है ।

 

अमन के परिंदे कब सब की आवाज़ सुना करते हैं ,

जो दिल को नागवारा गुज़रे हरगिज नहीं वो काम किया करते हैं ।

 

शहर के धुएँ में जान देती ज़िन्दगी ,

क्या बात है की गाँव के आगोश में पनाह माँग रही है ।

 

अपनी कमज़ोरियों को मजबूरियों का नाम लगाकर ,

जाने किस सुर्खाब ख़्याली में कहाँ भागी जा रही है ज़िन्दगी ।

 

दौड़ती भागती ज़िन्दगी से मैंने कहा तनिक देर ठहर दम भर ले तो सही ,

मुस्कुरा के बोलती है मौत से पहले पहले मुझे मरने की मोहलत भी नहीं ।

 

लाख़ रानाइयाँ हों जश्न ए महफ़िल में ,

लुत्फ़ तो आता है ग़म ए उल्फ़त में ये मज़ा फिर कहीं और नहीं ।

 

दिमाग़ लाख़ कारोबार ए जहान में मशरूफ़ सही ,

गोया दिल तो बस ख़्याल ए उल्फ़त में मसगूल रहा करता है ।

 

ज़िन्दगी थक के मौत न मुक़म्मल कर दे कहीं ,

बस आहों के लम्स और साँसों की रफ़्तार बनाये रखना ।

 

हलाल जानवर हों या इंसान फ़र्क पड़ता नहीं ,

सियासत और सियासी हर हाल में मदमस्त रहा करते हैं ।

bhoot wali darawni kahaniya,

जनाज़ों के काँधो पर सजती है पालकी इसकी ,

सियासत का कोई धरम ओ ईमान न कोई मज़हब होता है ।

pix taken by google

 

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers