गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है dard shayari...

गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है dard shayari ,

0
770
गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है dard shayari ,
गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है dard shayari ,

गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है dard shayari ,

गुलों के अर्क़ की ख़ुश्बू से तो बाज़ार सजा है ,

सब्ज़ बागों को जो उजाड़ा है वो गुनहगार कहाँ है

 

रक़म रक़म के खिलौने की भरमार यहाँ पर ,

जो दिल ए नादान को पुर सुकूत दे वो बाज़ार कहाँ है ।

 

यूँ ही गुलों की गुलों से तबीयत नहीं मिलती ,

कभी मिजाज़ ए फितरत नहीं मिलती तो कभी ख्याल ए शख्सियत नहीं मिलती ।

 

गुलों में भी ज़माने की आब ओ हवा का असर दिखता है ,

एक मुरझा गया तो दूजा खिलखिला के हँसता है ।

 

दिल में हूक जगा देती है ,

दूर बाग़ में जब कोयल कूक लगा देती है ।

 

शब् ए हिज़्र में जलता आसमान सुबह देर तलक रोता है ,

बाग़ का ओश से पुरनम होना सारी दास्तान कहता है ।

image shayari 

वस्ल की रात और दिल में विसाल ए यार की चाहत ,

इक गुल जला इस क़दर की सब्ज़ बाग़ को ख़ाक कर गया।

 

फ़िज़ाओं में चर्चा ये सुर्खरू सी है ,

राज़ ए गुल को भी गुलों की जुस्तजू सी है ।

 

मौसम ए हिज़्र है अभी मौज ए बहार आएगी ,

दिल ए नादाँ को सब्र का सबक आता कब है ।

 

गुलों ने तो हाल ए दिल बयानी की थी ,

कलियों ने ज़राफ़त का नाम दे डाला कोई बात नहीं ।

 

तेरी सादाकशी में मर गया दिल तो ,

गोया हुश्न ए रानाईयों से सजा बाजार कहीं और भी है ।

 

मौज ए तल्ख़ में मर गया आदम ए ख़ुल्द के बीच ,

क़फ़स में चूनर ओढ़े पड़ा है गड़े मुर्दों के बीच ।

 

बाज़ार ए नुमाइश में सजा रखे थे सामान कई ,

गौर तलब हो की कहीं खुद का किरदार भी न बिकता नज़र आये

 

ग़म के क़तरे समां गए इसमें ,

दिल का बाज़ार भी समंदर है ।

 

लूटा खसोटी है हर कहीं काला बाज़ारी है ,

जिस्मों का गोरख धंधा है रूहों की न तारी है ।

love poetry 

pix taken by google

 

Download WordPress Themes
Premium WordPress Themes Download
Premium WordPress Themes Download
Download Nulled WordPress Themes
download udemy paid course for free
download redmi firmware
Download Nulled WordPress Themes
udemy paid course free download

NO COMMENTS