माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ maa shayari ,

माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ maa shayari ,

0
1262
माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ maa shayari ,
माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ maa shayari ,

माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ maa shayari ,,

माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ ,

सोचता हूँ कभी मैं माँ पर ग़ज़ल लिखूं ,

जब मेरी सारी कायनात है माँ फिर मैं माँ पर क्या लिखूं ।

 

माँ मैं तेरी लिखी इबारत हूँ ,

तेरे सज़दे में झुकता है सर मेरा तुझे मैं खुदा लिखूं ।

 

माँ के कदमो में जन्नत का रास्ता है ,

गूंगा तो गूंगा बेज़बान जानवर भी माँ बोलना जानता है ।

 

कहने को हिंसक है जिसे सब शेर कहते हैं ,

उन्ही खूंखार जबड़ों में शावक हर हाल में महफूज़ रहते हैं ।

 image shayari

मज़ाल क्या है परिंदा भी पर मार दे नौनिहालों पर ,

नन्ही चिड़िया बाज़ से भिड़ जाती है अपने सेये पालों की खातिर खेल जाती है जान पर ।

 

माँ से है हर सै जहान की माँ सा कोई दूजा नहीं है ,

माँ से है कुदरत माँ से है दौलत माँ से जन्नत ज़मीन है ।

 

माँ की ममता बिकती नहीं है दुकानों पर ,

ये है अनमोल न कोई तौल सभी दीनार और असर्फी सब हैं बेकार इसके आगे ।

 

चार बेटों पर माँ बोझ बन जाती है अक्सर ,

मगर हर हाल ए मुफ्लिश में माँ अपने चारों बेटे पाल लेती है ।

 

एक हाँथ की पाँचों उंगलियां बराबर नहीं होती ,

एक माँ की ममता अपने पाँचों लालों में किसी को कम नहीं पड़ती ।

 

माँ से है कुदरत की हर सै ,

माँ से ही खुदा की भी रज़ा है ।

 

ये बस मैं नहीं हर जानवर इंसान क्या,

हिन्दू मुसलमान भी बोलता है ।

 

माँ से काशी माँ से काबा माँ से चारों धाम प्यारे ,

माँ की ममता जो न समझा फिर वो है बेकार का रे ।

 

माँ कभी कुछ नहीं कहती ,

माँ पर ग़मों की बर्षात भीतर ही भीतर ही भीतर बरसती रही ।

 

लाख ग़म दिल में रख के चुपचाप सह जाती है ,

माँ जब भी सामने आती है मुस्कुराती है ।

 

कद से बढ़ जाए चाहे कोई कितना ,

जब दर्द होता है ज़बान से केवल निकलता है मेरी माँ ।

 whatsapp status

pix taken by google

Download Premium WordPress Themes Free
Download WordPress Themes Free
Download WordPress Themes
Premium WordPress Themes Download
free online course
download samsung firmware
Download Premium WordPress Themes Free
download udemy paid course for free

NO COMMENTS