फ़िज़ाओं में जो मोहब्बत का पयाम आया है mushaira ,

0
3027
फ़िज़ाओं में जो मोहब्बत का पयाम आया है mushaira ,
फ़िज़ाओं में जो मोहब्बत का पयाम आया है mushaira ,

फ़िज़ाओं में जो मोहब्बत का पयाम आया है mushaira ,

फ़िज़ाओं में जो मोहब्बत का पयाम आया है ,

किसी के दिल की दुआ है या फिर बस लब से सलाम आया है ।

 

ज़मीर बढ़के थाम लेता है उन अश्क़ों को ,

जो अश्क़ हथेलियों में कभी टिकते नहीं ।

 

इश्क़ का नाम कितना तंज़ तंज़ लगता है ग़ालिब ,

बर्बाद ज़माने में कोई इश्क़ करके आबाद हुआ शख़्स बता ।

 

जो मोहब्बत के रास्ते में चल निकला ,

गोया ज़माने में लोग उसे ही क्यों कहते हैं ग़ालिब की वो क़ाफ़िर हो निकला ।

alone shayari 

खाली चर्चे थोड़ी न सुर्खरू हैं फ़िज़ाओं में ,

मयार ए नौ गुल खिले हैं बाग़ ए बहार में ।

 

दुआ आइन ए मोहब्बत की बेअसर निकली ,

ज़माने भर की बद्दुआओं का मोहब्बत पर क़हर था इस कदर ।

 

उम्र भर की कमाई पूँजी की हिफाज़त के वास्ते ,

बस इब्न ए इंसान ही खड़ा है कतार में दीन ओ ईमान की महफ़ूज़ियत के वास्ते ।

 

सियासत में दीन ओ ईमान की बातें ही बेजा हैं ,

जो चल जाए बिना रोके उसी में सियासियों की भी रज़ा है।

 

सूरत ए तस्वीर तो सियासतों की फानी हैं,

एक तरफ़ ईमान की बातें दूजी तरफ़ चुप्पी ग़ज़ब की बेईमानी हैं ।

 

चाँद तारे भी नज़रों में कब तलक रहते क़ामिल ,

ज़रा सी पलकें झपक गयीं और वो भी नीले आस्मां की तफ़री में निकल गए ।

romantic shayari , 

सर्द रातों का बुझा बुझा सूरज ,

दिन के उजालों में भी दिख न पायेगा ।

 

तेरे हिस्से की पूरी अना तेरी ,

मुझे मेरे हिस्से का पूरा आसमान देदे ।

 

लरज़ते अल्फ़ाज़ों को जब पनाह मिलती हैं सर्द रातों में ,

बढ़ के थाम लेता हैं कलम शायर सफहों में जज़बातों को ।

 

इधर बिस्तर में ओढ़े ढाँके को जाड़े की चिंता हैं ,

उधर सरहद पर सिपाही दुश्मन की गोली से हर रोज़ मरता है ।

 

भक्तों पर प्रभु की माया का इस कदर ख़ुमार है ,

आप खुद ही अपनी जांच करवा लो आप तो भगवान् विष्णु के अवतार हैं।

 

हमारी तो एज थी इसलिए गुरेज है ,

तुम्हे किसने हिदायतें देदी सर्द रातों में क्यों कर इश्क़ से परहेज है ।

pix taken by google