dark age urdu quotes in hindi दरख़्वास्त लगा रखी है हमने इश्क़ की कचहरी में ,

0
517
dark age urdu quotes in hindi दरख़्वास्त लगा रखी है हमने इश्क़ की कचहरी में ,
dark age urdu quotes in hindi दरख़्वास्त लगा रखी है हमने इश्क़ की कचहरी में ,

dark age urdu quotes in hindi दरख़्वास्त लगा रखी है हमने इश्क़ की कचहरी में ,

दरख़्वास्त लगा रखी है हमने इश्क़ की कचहरी में ,

कोई ऐसा वकील हो जो मुजरिम ए सजायाफ्ता न हो वो हमारे मामलात की भी पैरवी करे ।

 

ये उनकी नज़ाकत थी या जालवाफरोशी कहें ,

वो हर हाल में बहरहाल बस बदगुमां रहें ।

 

मौशिकी का मैकशी से कोई ताल्लुक़ नहीं होता ,

बस मैक़दे के नाम से अल्फ़ाज़ बहक जाते हैं ।

asli bhutiya kahani , 

वो दौर ए उल्फ़त थी ये दौर ए आफ़त है ,

वो वक़्त ऐसा था पलकों में गुज़र जाता था अब हाल ऐसा है लम्हे भी अखर जाते हैं ।

 

कमतर न समझ वो इश्क़ नहीं ,

शायर की ग़ज़ल में बस रवां रवां है जो ज़िद में आ जाए तो जान से भी खेल जाता है ।

 

आवाम बेलिबास रहे कोई बात नहीं सियासत की बस ठाठ रहनी चाहिए ,

न खोलो पैबंद ज़ख्मों के आब ओ हवा में गंध फैलेगी ,

दबे मुर्दे हो तुम ज़मीन के अंदर ही सड़ी लाश रहने दो ।

 

ज़माने की रवायत में कभी कसीदे नहीं पढ़ती है ,

कोई समझाए सियासियों को मोहब्बत जो कल तक थी बागी आज भी बग़ावत ही करती है ।

 

हमने उनकी मुस्कराहट के सदके में उम्रें गुज़ार दी ,

कुछ अंदाज़ ए गुफ्तगू का दिल तलबगार फिर भी है ।

 

वो कहते हैं सुरु फ़लसफ़ा ए मोहब्बत हम नहीं करते ,

गोया अटक जाए चाँद तारे फ़लक पर ऐसी तरजीह ए सेहर भी तो हम नहीं करते ।

 

सज़र के टूटते पत्तों पर रोना आया ,

है इंसान खुद अपनी तबाही का सबब ,

बेसबब बदलियां भी ठहरती नहीं हैं वहाँ क्यूँ कर बाग़ ए नौ बहार में बागवान ने गुंचा ए गुल पर क़हर ढाया ।

 

जाम ख्यालों से भी छलक जाते हैं ,

इस कदर तेरी आमद की अब खुमारी है ।

good morning shayari in hindi ,

कम पड़ जाती थीं रातें उसकी जिरह के आगे ,

अब नाम लेते ही मोहब्बत का ठहरता नहीं वो शख़्स किसी के आगे ।

pix taken by google ,