web horror story in hindi growing witch ,

0
563
web horror story in hindi growing witch ,
web horror story in hindi growing witch ,

web horror story in hindi growing witch ,

औरेलिआ और इब्राहिम की सदियों की मनोकामना पूर्ण हुयी थी राजमहल एक नहीं बल्कि दो दो किलकारियों से गूँज उठा था , रानी औरेलिआ को एक साथ पटरियों की प्राप्ति हुयी थी , मगर उन लड़कियों के पैदा होते ही बगीचे में लगा रात रानी का पेड़ कुम्हला गया लाजवंती की डालियाँ अपने आप कुम्हला के झुक गयी , महल के दीप बुझ गए चारों तरफ अँधेरा छा गया था , ऐसा लग रहा था मानो सारे राज्य में किसी मनहूस साये ने डेरा डाल लिया हो , तभी राज्यमंत्री सन्देश लेकर आता है , की नगर में कुलगुरु का आगमन हुआ है , इब्राहिम बढ़कर कुलगुरु का स्वागत करता है , कुलगुरु आदेश देते हैं फ़ौरन इन दोनों कन्याओं को ज़िंदा ही ज़मीन में दफ़न कर दिया जाए अन्यथा इसका परिणाम भयानक होगा , इब्राहिम कुल गुरु की बात न मानकर कुलगुरु का ही क़त्ल करके लाश को बगीचे में दफ़न कर देता है , बच्चियां बड़ी होने लगती हैं धीरे धीरे बगीचे में कोयल और बुलबुल का चहकना बंद हो जाता है , और चारों तरफ कौओं की कांय कांय सुनायी देने लगती है , दिन में महल के चारों तरफ कुत्तों और रात में लकड़ बग्घों का डेरा रहने लगता है , आसमान में भी दिन में चील गिद्ध तो रात में चमगादड़ मडराने लगते हैं , पहले नगर से लोग गायब हो रहे थे अब धीरे धीरे महल से लोग गायब होने लगे थे , और कुछ समय पश्चात सारा नगर कब्रिस्तान और महल खंडहर में तब्दील हो जाता है , इसी बीच राजा को एक पुत्र की प्राप्ति होती है ,

Whats app status hindi ,

औरेलिआ और इब्राहिम की बेटियां बड़ी हो रही थी , और उम्र के साथ उनमे ख़ास तरह की शक्तियों का भी विकास हो रहा था , मगर दूर कहीं कुछ और ही षड़यंत्र चल रहा था , सैतान लोक के राजकुमार जब्बार की नज़र पहले से ही औरेलिआ और इब्राहिम की बेटियों फ़ैज़ीना और समरीन पर थी , फ़ैज़ीना जहां सैतानी शक्तियों में माहिर थी वहीँ समरीन काली विद्याओं में निपुण थी काला जादू में महारत हासिल थी उसे , अभी नगर के विद्यालय में फ़ैज़ीना और समरीन का दाखिला हुआ ही था की जब्बार के मुस्टंडे आये दिन फ़ैज़ीना और समरीन का रास्ता रोक कर खड़े हो जाते और उसके सामने जब्बार का प्रेम प्रस्ताव रख देते , और न मानने पर उसे उसके घर से उठा कर सैतान लोक ले जाने की धमकी दे जाते , बाप असहाय था भाई छोटा वो चाहकर भी किसी की मदद नहीं ले सकती थी , इसके लिए उन्होंने एक दूसरे मायावी सैतान को अपना प्रेमी बनाने का निश्चय किया जिसका नाम था लूका , लूका देखने में स्मार्ट गठीला बदन सुडौल कदकाठी का नौजवान हट्टा कट्टा नवयुवक था फ़ैज़ीना ने उसे अपने प्रेम जाल में फंसाया और उसी के प्रेम में इतना रंगती चली गयी की उसे किस उद्देश्य के लिए फंसाया था ये भी भूल गयी , और लूका के इश्क़ में पागल फ़ैज़ीना ने कई वर्ष गवा दिए ये बात समरीन को नागवारा गुज़री क्यों की लूका पर पहले समरीन की नज़र थी मगर फ़ैज़ीना की दिलचस्पी के चलते समरीन अपनी चाहतों का गला घोंट देती है ,

रात का वक़्त है आसमान में चांदनी खिली हुयी है , लूका और फ़ैज़ीना प्रेम मिलाप के पश्चात सम्पूर्ण नग्न अवस्था में

एक दूसरे से लिपटे हुए बगीचे के बीचो बीच सुगन्धित फूलों के बीच लेटे हुए हैं तभी समरीन की तेज़ रफ़्तार कार की हेडलाइट्स लूका और फ़ैज़ीना पर पड़ती है , समरीन कार से उतरती है फ़ैज़ीना बड़ी बेशर्मी के साथ नग्न अवस्था में ही लूका से लिपटती हुयी कहती है , आओ समरीन मोहब्बत की गहराइयों का लुत्फ़ उठाओ तुम भी सम्मिलित हो जाओ हमारे साथ और समरीन को अपनी तरफ खींच लेती है , थोड़ी देर के लिए समरीन भी यौनक्रीड़ा में खो जाती है मगर कुछ ही पलों में उसे अपने जीवन का असली उद्देश्य याद आजाता है और वो उन्हें झिटक कर अपने कपडे समेटती हुयी वहाँ से भाग जाती है , आज की घटना से तय हो गया था की लूका और फ़ैज़ीना के बस में अब कुछ नहीं है अब समरीन को ही ज़ब्बार से निपटने के लिए कोई नया मोहरा तलाश करना पड़ेगा ,

cut to ,

काली शक्तियों का साया धीरे धीरे सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड को अपने कब्ज़े में ले रहा था , वहीँ एक और सैतान ताक़तवर हो रहा था जिसका नाम था मेवरिक उसकी शक्ति की कीर्ति ब्रह्माण्ड के चारों दिशाओं में धूम मचा रही थी , मेवरिक एक बस ड्राइवर था रोज़ १० किलोग्राम सूअर का कच्चा मटन उसका प्रमुख आहार था , जो सैतान लोक और परी लोक के बीच सवारियां ढोने का काम करता था , उसे अपने जिस्म के मोह जाल में फ़साने के लिए समरीन ने मेवरिक की बस में चलना सुरु कर दिया वो जब भी कहीं जाती बस मेवरिक की बस से आती जाती , मेवरिक एक लम्बा चौड़ा मर्द था उसे देख कर असुर लोक की कोई भी दैत्य सुंदरी तुरंत उससे आकृष्ट हो जाती , बहुत नैन मटक्का के बाद आखिर समरीन का जादू चल ही गया और मेवरिक उसके हुश्न्जाल में फस गया , और फंसता भी कैसे न समरीन चीज़ ही थी ऐसी , सुन्दर सुडौल वक्षस्थल के साथ भरे भरे गदराये गाल और भरे पूए नितम्बों की मालकिन थी समरीन , उस पर ग़ज़ब की कशिश थी उसके चेहरे में , कोई स्वर्ग का देव यक्ष किन्नर आसानी से उसका दीवाना बन जाता , इधर मेवरिक समरीन के इश्क़ में लट्टू हो रहा था , उधर फ़ैज़ीना लूका की दीवानी थी , मगर फ़ैज़ीना के दिमाग की सैतानी शक्ति कहीं गयी नहीं थी वो लाख मोहब्बत के गिरफ्त में सही , ज़ब्बार से बदले की आग उसे रह रह कर कसकती थी , और आखिर एक दिन मौका पाकर फ़ैज़ीना ने ज़ब्बार का ज़िक्र छेड़ ही दिया पहले तो लूका घबराया , मगर फ़ैज़ीना का प्रोत्साहन पाकर वो ज़ब्बार के खिलाफ जंग लड़ने के लिए तैयार हो गया , और आखिर कार उसने एक दिन ज़ब्बार को युद्ध के लिए ललकार दिया ज़ब्बार को छोटे मोटे गुंडों की धौंस का कोई फर्क नहीं पड़ने वाला था , उसने लूका को पकड़ कर ऐसा धुना की लूका के दिमाग से मोहब्बत का सारा भूत उतर गया , लूका की पिटाई से आहत फ़ैज़ीना ने खुद ज़ब्बार से भिड़ने का निश्चय किया , मगर ज़ब्बार ने उसकी भी जमके पिटाई कर दी लैला मजनू के पिटने के बाद , जब समरीन फ़ैज़ीना से मिली तो बोली अब तुम और तुम्हारा चूतियाधिपति लूका दोनों शांत बैठोगे अब ये युद्ध मेरा है , मैं अपने तौर तरीके और  कूटनीति से ज़ब्बार के साम्राज्य का अंत करूगी । तुम देखना अब मैं क्या करती हूँ , अगर तुम्हे आना है मेरे साथ तो तुम भी आ सकती हो , इतना कहकर समरीन वहाँ से चली जाती है ।

dard status in hindi 2 line,

लूका की हारी शक्ल देखकर फ़ैज़ीना को बहुत गुस्सा आता है वो लूका के चेहरे पर थूकती हुयी समरीन के पीछे चल देती है इधर कार स्टार्ट करके समरीन पार्क के गेट की तरफ बढ़ी ही थी की सामने फ़ैज़ीना को देखकर बहुत खुश होती है , वो उसे अपने साथ बिठा कर सीधा मेवरिक के ठिकाने की तरफ कूच करती है , मगर मेवरिक बीच रास्ते में ही बस चलाता हुआ मिल जाता है , समरीन कार से ही मेवरिक को फ्लाइंग किश भेजती है , मेवरिक किश को अपनी हथेली से कैच करके अपने सीने से लगा लेता है , लेकिन पता नहीं कहाँ से मेवरिक के पुराने दुश्मन बस पर हमला कर देते हैं , अचानक हुए हमले से मेवरिक घबराता नहीं है , वो दुश्मनो का डटकर मुक़ाबला करता है , और एक एक को काटकर फेंक देता है , लड़ाई के दौरान मेवरिक की पीठ में खंज़र घुस जाता है , और उसके एक साथी को दुश्मन सेना के लोग ७०० टुकड़ों में काट डालते हैं , हमले के बाद दुश्मन सेना फ़ौरन वहाँ से भाग जाती है , घायल मेवरिक की पीठ से समरीन खंज़र निकालती है , खंज़र निकलते ही अपने जिस्म के दर्द की परवाह न करते हुए मेवरिक अपने घायल मित्र के जिस्म के टुकड़ों को एकत्र करता है और सुई धागे की मदद से ७०० टाँके लगाकर उसके जिस्म को आकार देता है , तत्पश्चात अपनी सैतानी शक्तियों के माध्यम से अपने साथी को जीवन दान देता है , उसका साथी जीवित होते ही फ़ौरन मेवरिक को अपने गले लगा लेता है , और कहता है यारों का यार है तू मेरे भाई मेवरिक मेरी ये जान तेरी कर्ज़दार है मेरे दोस्त , इस पर सबसे पहले हक़ बस तेरा है , वक़्त आने पर मैं अपनी जान देकर भी तेरी मदद करूँगा मेरे भाई , फ़ैज़ीना मेवरिक की बहादुरी देखकर हैरान रह जाती है । धीरे धीरे फ़ैज़ीना भी मेवरिक के साथ घुल मिल जाती है , अब तीनो की तिकड़ी दिन भर सैतान लोक से परी लोक तक धमाल चौकड़ी मचाये रहती ।

इधर समरीन और फ़ैज़ीना की मेवरिक के साथ बढ़ती दोस्ती के कारण सैतान लोक और परी लोक के माता पिता ने अपने

बच्चों को फ़ैज़ीना और समरीन से दूरी बनाकर रखने की हिदायत दे रखी थी , समरीन और मेवरिक के इश्क़ के चर्चे ने दोनों लोकों में कोहराम मचा रखा था , मगर मेवरिक और फ़ैज़ीना के बीच कुछ और ही तरह का अंतरंग सम्बन्ध स्थापित हो चुका था , और इस सम्बन्ध के बारे समरीन भी भली भाँती जानती थी क्यों की मेवरिक महज़ उसके लिए जब्ब्बार की सल्तनत ख़त्म करने का माध्यम मात्र था , औरेलिआ और इब्राहिम भी इन गतिविधियों से भलीभांति वाक़िफ़ थे मगर उन्हें अपनी बेटियों की बहादुरी पर पूरा भरोसा था क्यों की बच्चियां अब कॉलेज पहुंच चुकी थी , कॉलेज में फ़ैज़ीना और समरीन के नाम की तूती बोलती थी हालात इस क़दर बेकाबू हो गए थे की फ़ैज़ीना और समरीन अपने सीनियर की भी रैगिंग लेने लग गयी थी , मेवरिक ड्रग्स का बहुत बड़ा सप्लायर था , सात समंदर पार से माल आता था उसके पास पैसे की कोई कमी न थी , बस ड्राइवर वो सिर्फ मनोरंजन के लिए बना हुआ था , लडकियां हाँथ से निकली जा रही थी , अब ये फ़िक्र माँ बाप को भी सताने लग गयी थी । इधर ज़बरदस्त पिटाई के बाद लूका ज़ब्बार की पनाह में जाकर उसका गुलाम बन चुका था , वो समरीन और फ़ैज़ीना की तमाम कमज़ोरियाँ ज़ब्बार को बता चुका था ,

संयोगवश आखिर वो दिन भी आ ही गया , जिसका इंतज़ार फ़ैज़ीना और समरीन बरसों से कर रही थी , सैतान लोक शाही रेस्टॉरेंट जहां फ़ैज़ीना और समरीन मेवरिक के साथ लंच कर रही थी की तभी ज़ब्बार अपने चमचों के साथ रेस्टॉरेंट के अंदर प्रवेश करता है , ज़बार को वहाँ देखकर फ़ैज़ीना और समरीन डर जाते हैं मगर साथ में मेवरिक के होने कारण खुद को ढाढस बंधाती हुयी चुप चाप बैठ जाती हैं , तभी लूका की नज़र फ़ैज़ीना और समरीन पर पड़ती है , लूका बढ़कर फ़ैज़ीना और समरीन की चोटिया पकड़कर घसीटता हुआ दोनों को ज़ब्बार के क़दमों में ले जाकर पटक देता है , ज़ब्बार दोनों को उठाकर अपनी बाहों में भरता हुआ उनके जिस्म की खुशबू सूंघता है और कहता है कहाँ थी मेरी कुतियों तुम बहुत तड़पाया है तुम दोनों ने मुझे चलो इन्हे अपने साथ ले चलो आज रात की रानी बनेगी ये दोनों हमारे महल की नयी रक्कासाओं में दो नाम और बढ़ गए और अपनी घिनौनी जीब से बारी बारी से दोनों के चेहरे चाट लेता है , ज़ब्बार की कटीली जीभ की चुभन से फ़ैज़ीना और समरीन का चेहरा लाल हो जाता है , खून रिसने लगता है उनके चेहरे से , तभी लूका कूदकर सामने आता है और कहता है सरदार मेरी मोहब्बत है ये दोनों , गुस्से से ज़ब्बार लूका को एक लात मारता है , लूका फटी के आलम में डरे हुए कुत्ते की भाँती फ़ौरन भागकर काफिले की गाड़ी में बैठ जाता है , तभी मेवरिक ज़ब्बार के सामने आजाता है , वो ज़ब्बार को युद्ध के लिए ललकारता है , ज़ब्बार कहता है तो तू ही है सैतान लोक का नया मसीहा बनने का ख्वाब देखने वाला , और मेरी इन दोनों पिद्दियों का आशिक़ अबे आशिक़ है तू जा इश्क़ विष्क कर मुझसे मुक़ाबला तेरे बस की बात नहीं है , तभी गुस्से में आगबबूला मेवरिक ज़ब्बार की गर्दन पकड़ लेता है , मेवरिक की सैतानी ताकत की जकड से ज़ब्बार का जिस्म जलने लगता है , वो उससे छूटने की कोशिश करता है और आखिर कार अपने साथियों की मदद से छूट भी जाता है ,

मगर अपने साथियों की मदद से ज़ब्बार को वहाँ से भागना पड़ता है , मेवरिक की बहादुरी के चर्चे परीलोक से सैतान

लोक तक चर्चा का विषय बन चुके थे , हर शख्स मेवरिक का फैन बन चुका था , सभी समरीन फ़ैज़ीना और मेवरिक से हाँथ मिलाना चाहते थे , चाहे फिर वो व्यापारी हो या कॉलेज के स्टूडेंट्स , सभी को मेवरिक की सुरक्षा प्राप्त होने लगी थी लोगों का सैतान लोक की पुलिस से विश्वास उठ चुका था कुछ गुप्त विद्याओं के अध्ययन के लिए परी लोक के क्षेत्रों को भी सैतान लोक की युनिवर्सिटी आना पड़ता था , अब मेवरिक के होते हुए उन्हें किसी बात का कोई भय नहीं था , मेवरिक का नाम सुनते ही ज़ब्बार के चमचे यहां वहाँ दुबक जाते थे , सैतान लोक में ड्रग्स का कारोबार फल फूल रहा था , परी लोक की कुछ और सुंदरियों के साथ मेवरिक की मित्रता हो गयी थी , इधर फ़ैज़ीना और समरीन के दिमाग में सैतान लोक की गद्दी हथियाने का सही अवसर दिखाई दे रहा था , दोनों बहनो ने मिलकर साज़िश रची उन्होंने एक बार फिर मेवरिक को परम प्रतापी बनने का सुनहरा ख्वाब दिखाया , इश्क़ के नशे में मदमस्त मेवरिक को अपने जिस्म पर पहने लिबास का भी होश नहीं रहता था , एक बार परीलोक जाने वाले हाईवे से लगी लगी झील पर मेवरिक समरीन और फ़ैज़ीना के साथ नग्न स्नान कर रहा था , तभी मेवरिक की चौकसी में लगे उसके आदमियों में से किसी एक ने चिल्ला दिया ज़ब्बार का सैनिक है , मेवरिक बिना कपडे पहने हुए नग्नावस्था में ही तालाब से बाहर निकल आया , और उस आदमी को इतना मारा उसके लाख मना करने पर भी की वो ज़ब्बार का आदमी नहीं है और वो आदमी वहीँ मर गया , और उस मरे हुए आदमी का सिर काट कर हाँथ में लिए हुए वो खुद पुलिस के सामने पहुंच गया और बोला मैंने काटा इस आदमी का सिर दम है तो मुझे गिरफ्तार कर लो , उसका ये खौफनाक रूप देखकर सिपाही भी डर जाते हैं , समरीन और फ़ैज़ीना के इश्क़ में मेवरिक इतना मतान्ध हो गया था की , वो आधी रात के वक़्त भी फ़ैज़ीना और समरीन के घर के सामने अपनी जीप ले जाकर खड़ी कर देता था , मगर मेवरिक के खौफ के कारण औरेलिआ और इब्राहिम कुछ बोल नहीं पाते थे , मूर्ख मेवरिक तुरंत ही फ़ैज़ीना और समरीन की बातों में आगया , उसने एक बार फिर अपनी सैतानी टोली के साथ ज़ब्बार के साथ युद्ध करने का निर्णय लिया , मेवरिक के साथियों ने उसे समझाया की लड़कियों के चक्कर में मत पड़ मेवरिक ज़ब्बार से आमने सामने की टक्कर में हमारा अस्तित्व खत्म हो जायेगा , मेवरिक को जहां अपने मित्रों की बात थोड़ा भी समझ में आती , फ़ैज़ीना और समरीन उसे शराब में ज़हरीला लिक्विड मिला कर उसे पीला देती , और मेवरिक को अपने बस में करने के लिए अपने जिस्म का प्रलोभन देती , मेवरिक धीरे धीरे फ़ैज़ीना और समरीन के जाल में फंस चुका था , और आखिरकार एक दिन मेवरिक ने अपने साथियों के साथ ज़ब्बार के ऊपर हमला कर ही दिया , दोनों के बीच घमाशान युद्ध हुआ , मौका पाकर समरीन ने लूका का चेहरा मशाल से जला दिया , और उसे समझाया की हम चाहते तो तुझे मार भी सकते थे , मगर तू पुराना इश्क़ है हमारा इसलिए जा तुझे अधजला छोड़ दिया ज़िंदा तड़पने के लिए ,

bhutiya gaon,

ज़ब्बार और मेवरिक के बीच बहुत लम्बा युद्ध चला ज़ब्बार चाहकर भी मैदान नहीं छोड़ सकता था , क्यों की एक मामूली बस ड्राइवर के सामने आत्मसमर्पण से ज़्यादा अच्छा वो उसके हाँथ क़त्ल होजाने में फक्र की बात समझता था , और आखिर कार हुआ भी वही , मेवरिक के हांथों ज़ब्बार का क़त्ल हो जाता है , मगर युद्ध के अंत तक मेवरिक की हालत सही नहीं रह पाती है , समरीन द्वारा दिया जाने वाला विषाक्त पेय अंदर ही अंदर उसके शरीर को जर्जर कर दिया था , फ़ैज़ीना और समरीन ने सैतान लोक की बागडोर अपने हाँथ में सम्हाल ली थी , फ़ैज़ीना और समरीन के मल्लिका ए हुश्न बनने के बाद मेवरिक को दूर बीहड़ों में भटकने के लिए छोड़ दिया जाता है , जब कभी मेवरिक और लूका आमने सामने मिलते हैं तो एक दूसरे को देखते ज़रूर हैं , मगर दोनों की मानसिक स्थिति विकृत होने के कारण पहचान नहीं पाते हैं ,
फ़ैज़ीना और समरीन ने अपनी ऐय्यासी और ड्रग्स के धंधे को बढ़ाने के लिए एक क्लब खोल लिया है , अब वही उनका प्रमुख अड्डा है , क्लब की लाइट्स ऑन होती हैं , और गाना बजता है , तू जानेमन है जानेजिगर है तेरे लिए जान भी हाज़िर है , और इसी के साथ कैमरा ज़ूम आउट हो जाता है ।

story finished

pics taken by google ,