अदावत में आमादा है मोहब्बत उसकी love shayari,

0
902
अदावत में आमादा है मोहब्बत उसकी love shayari,
अदावत में आमादा है मोहब्बत उसकी love shayari,

अदावत में आमादा है मोहब्बत उसकी love shayari,

अदावत में आमादा है मोहब्बत उसकी ,

सर इल्ज़ाम नहीं तिज़ारत ओ बेवफाई का ।

 

मुरझा न जाए फ़स्ल ए ग़ुल खिज़ा के मौसम में ,

हमने अश्क़ों से सीँचा है दिल के ज़ख्मों को बाग़ ए बहार में ।

 

दीदा ए हुश्न की क़तार में उम्रें गुज़ार कर ,

दिलों में बेचैनी ए इश्क़ है आशिक़ का जनाज़ा ज़रा जल्दी उठाइये ।

 

शायर की शायरी को अश्क़ों के दो जाम हो जाएँ ,

फिर हाल ए दिल बयानी में चाहे सुबह ओ शाम हो जाए ।

love shayari 

जत्थे का का जत्था उठता रहा मलबे का ,

रात की तह में दबे अरमानो की कैसे फ़िक्र किये बगैर ।

 

रहे न रहे नाम ओ निशाँ जहां में ,

लबों पर दास्तान ए इश्क़ कोई छोड़ जाऊँगा ।

 

बेचैन है रूहें शिकायत ए दौर ज़ारी है ,

किसी के हक़ में बस ख़याल ए यार किसी को गज़ब की इश्क़ ए खुमारी है ।

 

ज़िंदा लाशों को हिज़ाबों में रखने की रवायत है यहाँ ,

न होती है लब पे शिकायत न चाक जिस्मों के पैबंद नज़र आते हैं ।

 

जाम ए मैकशी के बाद ही अक्सर ,

शिकायत ए पयाम दोस्तों की बातों में नज़र आते हैं ।

 

हिज्र ए मौसम का ज़हन पर हुआ इस कदर से असर ,

खिज़ा के मौसम में अंजुमन ग़ुल ए गुलज़ार नज़र आते हैं ।

 

आगाज़ ए इश्क़ इन्क़िलाब जैसा है ,

अंजाम ए इश्क़ क्या एलान ए जंग से कम होगा ।

 

अंदाज़ ए इश्क़ से वाक़िफ़ न था ज़माना सारा ,

अब मोहब्बत के साथ दिल की अदावतें भी तूल पकड़ेगीं ।

funny sms 

तर्क़ ओ ताल्लुक़ न निभा पाए मोहब्बतों वाले ,

अब अदावतें क्या ख़ाक निभा पाएंगे बेवज़ह वाले ।

 

आरज़ू ए मोहब्बत में जब कभी रूहें भटक जाती हैं ,

बेचैन फिरती है ताउम्र सुकून किसी ठौर नहीं पाती हैं ।

 

सब पे जवानी आयी आकर चली भी गयी ,

गोया नसीब वालों की रगों में ये मोहब्बत ए रवानी का जज़्बात होता है ।

pix taken by google