उतरेगा जूनून ए मोहब्बत तेरे भी सर से romantic shayari,

0
614
उतरेगा जूनून ए मोहब्बत तेरे भी सर से romantic shayari,
उतरेगा जूनून ए मोहब्बत तेरे भी सर से romantic shayari,

उतरेगा जूनून ए मोहब्बत तेरे भी सर से romantic shayari,

उतरेगा जूनून ए मोहब्बत तेरे भी सर से,

जब तू भी जलेगा शर्द की रातों में तपती दोपहर से ।

 

सड़क पर साथ जिसके हो तू मुड़ जाता है बहाने से ,

तेरा अब भी बेबाक़ मुड़ जाना ख़लिश दिल की मिटाता है ।

quotes life hindi 

कौन था इश्क़ से पहले ज़माने में क़ातिल ग़ालिब ,

क़त्ल भी हम हुए क़त्ल का सामान भी हमारा था ।

 

नींद आती नहीं है तुझसे इक़रार ए मोहब्बत के बाद ,

दिक़्क़त सिर्फ इतनी है दिल में न जाने क्यों खलबली सी है ।

 

शहर का शहर मलबे में दब गया होगा ,

तब कहीं जाकर इंसान ख़रपतवार सरीखे उग गया होगा ।

 

अब तो शहर के पत्थरों में भी सियासत है सनम ,

ऐसा करते हैं जंगल को भाग चलते हैं ।

 

हर्फ़ दर हर्फ़ बयान इश्क़ करें गौर तलब ,

मेरी शायरी के सरमाये में तेरी हाज़िर जवाबी शाम ओ सेहर ।

 

हो कोई मुसीबत या सैतानी नज़र का साया ,

माँ की आगोश में बच्चे दोनों जहाँ की आफतों से महफूज़ रहते हैं ।

 

मौत ग़र एक सगूफा है मैं उसको सजाना चाहता हूँ ,

ज़िन्दगी जीने नहीं देती मैं ज़िन्दगी से मोहलत माँगता हूँ ।

 

टूटते ख़्वाब सँजो लाया हूँ, मैं तेरी यादों के मोती पिरो लाया हूँ ।

एक भरम थी मोहबत तेरी , एक भरम में ही रहना चाहती है मोहब्बत मेरी ।

 

वक़्त नहीं मिलता क्या कहीं और तबाही मचाने के लिए ,

क्यों बस मेरी जान की दुश्मन बनी फिरती हैं यादें तेरी ।

 

ख़्वाहिश यूँ जगी थी तन्हा मन में , दिल ए नाशाद को आबाद करेंगे ,

खुद जलाएंगे अंजुमन अपना और किसे बर्बाद करेंगे ।

 

इस नज़ाक़त से उतरी थी वो बुत ए मुजस्सिम सी  जिगर में ,

ख़्याल बेपर्दा हो जाते तो नज़र भर के देख लेता ।

 

गुलों का काम था चमन को महकाना ,

सैयादियों से ये भी देखा न गया ।

 

ज़र्द पत्तों से अर्क़ बनता है ,

जल कर भी गुल अंजुमन को ख़ुश्बू देता है ।

bhoot pret ki sachi kahaniyan,

ज़मीन ए ख़ाक पर स्तुति होती है वहीँ पर नमाज़ होती है ,

फ़िर किस ख़ुदा के वास्ते इंसानियत तबाह होती है ।

pix taken by google