गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं urdu shayari ,

गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं urdu shayari ,

0
2316
गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं urdu shayari ,
गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं urdu shayari ,

गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं urdu shayari ,

गुंचा ए गुल से खुश्बुएँ नदारद हैं ,

जब से शहर ए मौसम में सुर्खरू है आमद तेरी ।

 

ज़माना क्या बदला मोहब्बतों के मायने बदल गए ,

किसी के हिस्से में सच्ची मोहब्बत आई किसी के हिस्से में बस इश्क़ के दायरे रह गए ।

 

जहान को छोड़ चला तन्हा, लोगों की फराकत के वास्ते ,

किसी को छोड़ा तो नहीं तन्हा, मुझ पर रोने के वास्ते ।

love shayari 

दिल ख़ुश्बुओं का तलबग़ार है ,

गुंचा ए गुल और चमन के ज़र्रे ज़र्रे को क्या बाग़ ए बहार की दरकार है ।

 

स्वाद चखा है तल्खियों में ज़माने भर का ,

देख कर तल्ख़ निगाहों को ज़बान भी कडवाई है ।

 

दिखने लगा है शहर ए नामचीनों पर भी मौसम की तब्दीलियत का असर ,

ज़बान मीठी और हुश्न की रंगत निखर गयी ।

 

तक़दीर वालों के सर पर ही हमेशा माँ बाप का साया होता है ,

गोया ज़ौक़ ए ज़िन्दगी का तज़ुर्बा मीठा कम कड़वा ज़्यादा होता है ।

 

ज़ौक़ ए ज़िन्दगी का हर तज़ुर्बा कड़वा ही सही ,

बाद तल्खियों के भी चेहरे मुस्कुराते हैं ।

 

तेरी ज़बान से वादे ओ वफ़ा की बातें ,

तेरे हर लतीफे पर तरस आता है ।

 

न फ़लक़ का हुआ न ज़मीन का हुआ ,

दिखा के आस्मां का सूरज कोई ज़र्रा ज़र्रा जला गया ।

sad shayari , 

अबके बिछड़े बहारों में हम मिलेंगे सनम ,

खिज़ा के मौसम न देंगे गुलों को कोई ग़म ।

 

वो शब् बज़्म में आ बैठे हैं दामन सम्हाल के ,

कोई तीर ए सुखन न दिल पर चल जाए नशेमन सम्हालिए ।

 

आसमान के सूरज से तेज़ इश्क़ की तासीर होती है ,

जो बचे हुश्न ए आफ़ताब से ऐसी कहाँ सबकी तक़दीर होती है ।

 

दूर से मज़ा देती नहीं ये ज़ौक़ ए शायरी ,

कुछ दिल जला के भी शाम ए बज़्म में तसरीफ लाइये।

 

लब पर आते आते लफ़्ज़ों के मायने बदल गए ,

दिल के भीतर तो बस आलम ए इश्क़ के गुबार की सुमारी थी ।

pix taken by google

Download Nulled WordPress Themes
Download WordPress Themes
Download WordPress Themes Free
Premium WordPress Themes Download
lynda course free download
download samsung firmware
Download WordPress Themes
free online course

NO COMMENTS