नफरतों में चले खंज़र गयी बात कहो quotes in hindi ,

0
580
नफरतों में चले खंज़र गयी बात कहो quotes in hindi ,
नफरतों में चले खंज़र गयी बात कहो quotes in hindi ,

नफरतों में चले खंज़र गयी बात कहो quotes in hindi ,

नफरतों में चले खंज़र गयी बात कहो ,

आशिक़ों के शहर में इश्क़ का तह ए दिल से एहतेराम हुआ है ।

 

ज़रूरी नहीं की हर बार दर ओ दीवार पर तहरीर ए मोहब्बत ही लिखी लिखी जाये,

फिर मंज़िल ए मुसाफिर को गुमराह किया जाये ।

 

ख़याल ए सुख़न और ग़ालिब की ग़ज़लें ,

हाँथ में ज़ाम उठा और इश्क़ से तौबा कर ली ।

 140 words shayari

यूँ तो हाल ए दिल बयानी में सबके ही लुत्फ़ आता है ,

गोया ग़ालिब के सुख़नवर की मियाँ बात ही अलग है ।

 

मुर्दों पर मीनारें शहरी सियासी दस्तूर है ग़ालिब .

क्यों ऐसा न करें हम भी अपनी मज़ारें खुद ही बनवा लें ।

 

हमने इश्क़ को ख़ुदा समझा ,

गोया इश्क़ ने सनम को कर दिया ग़ालिब

 

देख कर बुत ओ मुजस्सिम को भी ग़ज़ल होती है ,

मुमकिन नहीं ग़ालिब की खयाली में बस कोई दिल ए नासाद करें ।

 

इश्क़ और ग़ालिब सा तर्क़ ओ ताल्लुक़ ओ ख़यालात रहा ,

मैं और मेरे सुख़नवर का शब ए बज़्म तक इत्तेफ़ाक़ रहा ।

 

दिल के अरमानों का ग़र खू ए क़तल भी होता ,

हर रोज़ चलता मुक़दमा दिल ए अरमान सख्त तालों में ज़ब्त ही मिलता ।

 

तुझसे मोहब्बत करते करते,

खुद का क़ातिल सा बन गया हूँ मैं ।

 

कितने गिरेबां रोज़ नपता है क़ातिल ,

कोई न कोई फंदा तेरे गले के नाप का भी होगा ।

 

साबुत बचा न कोई सज़दे में झुकने वाला ,

ज़ौक़ ए सर कलमी हो तो तुम भी मोहब्बत कर लो ।

 

इश्क़ ने फ़ितरत से किसी आशिक़ को बख्शा ही नहीं ,

ग़र कोई इश्क़ की गलियों से बच के निकल जाये तो गफ़लत होगी ।

 

सर इल्ज़ाम नहीं लेता यहां क़ातिल कोई ,

क़ातिलों ने क़त्ल को वक़्त की फ़ितरत का नाम दे डाला ।

 

हलक़ पे ज़ाम आके अटका है ,

ज़बान पर मोहब्बत की प्यास अभी बाकी है ।

 

लख्त ए जिगर बाजू में रख के हिसाब करता हूँ ,

क़ातिलों के शहर में अपनी क़ातिल की तलाश करता हूँ ।

 horror story in hindi

ग़ालिब तो बस बदनाम हुए मैकशी के वास्ते ,

हमने भी कई ज़ाम पिये उनकी नज़रों के रास्ते ।

pix taken by google