शब् ए बज़्म चरागों को रोशन करके whatsapp status hindi,

0
533
शब् ए बज़्म चरागों को रोशन करके whatsapp status hindi,
शब् ए बज़्म चरागों को रोशन करके whatsapp status hindi,

शब् ए बज़्म चरागों को रोशन करके whatsapp status hindi,

शब् ए बज़्म चरागों को रोशन करके ,

रंग ओ बू ए हिना चिलमन में छुपाऊं कैसे ।

 

फ़िराक़ ए गुल कहें या मिजाज़ ए मौसम ,

सेहराओं से गुज़रा तो हवाओं में खुशबुएँ घोलता चला ।

 

कुछ वो ख़फ़ा ख़फ़ा सा कुछ मैं बेवफा निकला ,

फ़िराक ए यार के अलावा सारा जहां मुक़म्मल निकला ।

 

फ़िराक़ फिरंगी की भी समझ पाता कोई ,

हमारे पथ में पथहोल्स बना कर चले गए कितने ।

ghost alive a true horror story 

आस्मां दो अलग अलग थे शायद ,

मिलके दोनों को रंग भरना था ।

 

यूँ मिली सांस मेरी साँसों से ,

सांस को सांस का क़र्ज़ अदा करना था ।

 

घरों में जलाओ चरागों को सेहर होने तक ,

की इसके पहले दीदा ए यार में आफ़ताब जले ठीक नहीं ।

 

आज की रात चरागों का सफ़र लंबा है ,

रात की रात है सवेरा है उजाला किसी ठौर नहीं ।

 

आवारगी यूँ ही बदनाम न थी भवरे की ,

पत्ता पत्ता बूटा बूटा ने गुलों के खिलने का गीत गाया है ।

 

उडी उडी सी फ़िज़ाओं में बहार घुल मिलकर ,

फ़िज़ाओं में बहार  ऋतू बसंती का धानी चूनर से सिंगार करें ।

 

जहां के रंगों में रंगत नहीं आती ,

रोती है हर कली हर डाली जिसका माली नाराज़ होता है ।

 

मुक़द्दर उन तितलियों का देखो ,

जाने कौन रंग भर के वीराने में छोड़ जाता है भटकने के लिए ।

 

आज प्यासी नदियों ने ले ली करवट ,

मोहब्बत की घटा बनके शब् ए महताब यार बरसा है ।

 

वो दौर ए मोहब्बत वो शबाब ए हुस्न ,

हवा ऐसी चली की अंजुमन में ज़र्द पत्ते भी गुल ए गुलज़ार हुए ।

 

न जाने क्या सोच कर रखा,

रात की तन्हाइयों में चाँद को ज़ीने में सजाकर उसने ।

 

रात की चाल में भी थिरकन है ,

ये घटा घनघोर होकर आज भी तेरे मोहल्ले से आई लगती है ।

 

यूँ तो शहर भर के मिजाजों की ख़बर है उनको ,

बस हमारे ही हाल ए दिल की कोई ख़बर ही नहीं ।

whatsapp status hindi,

pix taken by google,