उठती थी खेतों में ढेंकुर की चुर्र मुर hindi literature ,

0
583
उठती थी खेतों में ढेंकुर की चुर्र मुर hindi literature ,
उठती थी खेतों में ढेंकुर की चुर्र मुर hindi literature ,

उठती थी खेतों में ढेंकुर की चुर्र मुर hindi literature ,

उठती थी खेतों में ढेंकुर की चुर्र मुर ,

सका गयी रहट के बैलों की घंटी भी कहाँ जाने।

 

नहीं आता मज़ा चित्रपट की विविध भारती में ,

साजन जी डी टी एच के ऍफ़ एम् में वो रेड़ुआ का मज़ा है कहाँ ।

 

अब तो मोर अभाभट अहिमक लक्का ,

सांझ सकारे पल्सर २२० की रेस लगावै हम जाने ।

 

बिहाने का कलेवा दुपहरिया का लंच होइ गया ,

अब तो काज गमन में भी कढ़ी भात नहीं हक्का नूडल्स बने है हम जाने ।

 

खो गए परदनी लंगोटी कक्का पहने पतलून कान माँ ठूसे फून,

मागे तम्बाकू चून बलम जी हम जाने ।

 

sad poetry in urdu about love 

अब तो घूंघट भी हो गए शर्मिंदा ,

टीवी सनेमा का चुम्मा ही बस है ज़िंदा मर जाओ बिना डिस्पिरिन की गोली ।

 

चिल्लम चपाटी ठर्रा चापे दिन दहाड़े मटके डॉक्टरबा,

काज ब्याह माँ बसी न होती ,

सरपट भागे बिहान सकारे ।

 

दुलहा पंडित और दुल्हनिया सगळी रात मरे अहिमक ठण्ड के मारे ।

भाग बराती ठाढ़ दुआरे माघ पूस की बात ,

ठाड़ी पड़ी जो ऐसी ठण्ड की हो गयो परम्पराओं पर जैसे बज्र कुठाराघात ।

 

घंटन बैठे रगड़त ऐड़ी , सौख न धरी खटाये ,

नयी नवेली नार कसम से गज़ब क़यामत ढाये ।

 

inspirational status in hindi 

पुटकी वाला भात नयी नवेली नार पकाये ज्योनार ,

गैस सब्सिडी ख़त्म होइ गयी कैसे करम दण्ड हमारे ।

 

जेतबा से पिसना पीस के गीले काँदौ माँ बटुआ धर दी छूँछ ,

करम जले की चाकरी किश्मत गयी अभागन रूठ ।

 

तोरे राय नून चोकरा से कौनौ भूत भागे न भागे ,

दो पैरासीटामोल एक एंटिबॉयोटिकवा से बुखार होइ जावेगा दूर ।

 

तुमहू का गर लागे लाज मोरी छोहरिया ओढाई के आ जाओ आज ,

मैं बिरहन तज लोक लाज सब नटवर नागर ना जाओ आज ।

 

बन बन भटके जियरा बयार , मैं बिरहन तस बारी रे ,

मंत्र मुग्ध श्यामल अधिलोचन निसदिन मोरे नयन तोहका निहारी रे ।

urdu poetry sites 

pix taken by google