हुश्न वालों को नज़ाक़त की ज़रुरत नहीं होती love quotes in hindi,

0
337
हुश्न वालों को नज़ाक़त की ज़रुरत नहीं होती love quotes in hindi,
पहुश्न वालों को नज़ाक़त की ज़रुरत नहीं होती love quotes in hindi,याम ए मोहब्बत में,

हुश्न वालों को नज़ाक़त की ज़रुरत नहीं होती love quotes in hindi,

हुश्न वालों को नज़ाक़त की ज़रुरत नहीं होती ,

मेहरबान गर इश्क़ हो ये अदा खुद बा खुद आ ही जाती है ।

 

ज़िन्दगी हैं चन्द साँसों का ताना- बाना ,

हर रोज़ उलझे तारों को सुलझाना थक के सो जाना ।

 

बात मुख़ालफ़त की होती तो हम रिश्ता निभा भी देते ,
साथ लम्बे रास्तों का था कब तलक़ साथ काँधा लगाए फिरते ।

 shayari hq

क़ातिलों ने क़त्ल का सामान इज़ाद किया ,

फिर उसी इश्क़ को सात पर्दों के पीछे रख छोड़ा ।

 

तीर तरकस सी तेरी बातें खंज़र से तेरे नैन ओ नक़्श,

हुश्न अपना तू तेज़ धार सही म्यान में ही रख ।

 

नाज़ ओ नखरे हम उठाते हैं सर आँखों पर ,

और सिकन झलक आते हैं उनकी पेशानी पर ।

 

तुमको तुम्हारी माल ओ मिल्क़ियत का वास्ता ,

हमको हमारे हाल में बदहाल जीने दो ।

 

जाने किस  ग़ुमान में थी ज़िन्दगी ,

किश्ती डुबो दी आबरू ए आब् की ख़ातिर अफसोश तब हुआ ।

 

इतना लुटा बाजार पडोसी के प्यार में ,

ख़ुद की दूकान की ख़ातिर खरीदार न मिला ।

 

उम्र भर के सारे खर्चे निकाल करके ,

ज़िन्दगी तेरी साँसों का क़र्ज़ हर रोज़ मैं भरता हूँ ।

 

नींद में भी हर्फ़ दर हर्फ़ समझ सकता हैं दिल ,

मेरे सीने में जो तू चुपके से तहरीर लिखा करती हैं

 

जब सारा गुंचा ए चमन सोता हैं ,

बस एक कली ख्वाबों के साद ओ ग़म को चुनI करती हैं ।

 

जहाँ भर का आशियाना दिया हो तुझे रहने के लिए ,

तू क्या तामीर करेगा उस खुदI के लिए ।

 

जहाँ वालों को ग़ुमान जायज़ हैं ,

जहाँ में क़यामत के बाद भी इश्क़ क़ायम हैं

 

माना की गैरों की आमद से मचल जाता हैं दिल ,

अब से पहले भी दिल ये मेरा मुझसे यूँ बेईमान न था ।

 

महफिलों में जलती हैं मीनारों में जलती हैं ,

गली कूचों को रोशन कर शमा अंधेरों में जलती हैं ।

chudail kalyana,

अब गुलों की रंग ओ बू ख़ार बन चुभती हैं बागबानों को ,

गोया अब बागों के फसल ए गुल में बहार ही दिखनी चाहिए

pix taken by google