गिरफ़्त कर दे ढीली तो कुछ और जी लें जीने वाले romantic shayari,

0
629
गिरफ़्त कर दे ढीली तो कुछ और जी लें जीने वाले romantic shayari,
गिरफ़्त कर दे ढीली तो कुछ और जी लें जीने वाले romantic shayari,

गिरफ़्त कर दे ढीली तो कुछ और जी लें जीने वाले romantic shayari,

गिरफ़्त कर दे ढीली तो कुछ और जी लें जीने वाले ,

वरना बेमौत मरेंगे तेरी ज़ुल्फ़ों में मरने वाले

 

शहर भर के उजालों पर घनेरी ज़ुल्फ़ें करके,

जाने किसके दिल का खज़ाना लूटेगी निगाहें तेरी धोखा करके ।

quotes life hindi 

इत्र की बोतलों में भर भर के जो आदम ए खून सहेज रखा है,
मुर्दों से आती बास को कब किसने जहान में रोक रखा है ।

 

मत देख मेरे इश्क़ का जूनून ,

तू देख मेरे इश्क़ में कितनी सच्चाई है ।

 

तन पर नज़र तू मत रख तन शानदार है ,

आत्मा टटोल आत्मा पर कितने घाव हैं ।

 

बड़ा तल्ख़ तल्ख़ लगता होगा ,

जब अतीत का कोई शख्स आत्मा कुरेदता होगा ।

 

जब भी बैठ जाता हूँ पुरखातन का खोल कर चिटठा ,

अतीत की पेशानी पर हैरानी के सिकन आज भी उमड़ आते है ।

 

वक़्त के पहले निज़ात मिलती नहीं ,

ये तिश्नगी ए इश्क़ है क़ब्र के पहले भी कभी बुझती नहीं

 

जितने पैंतरे सियासी नट जानते हैं ,

उतने करतब आदम ए खुल्द के बस की बात नहीं ।

 

दिल की टीस मुर्दों के दबे छाले ,

हर आदम ए खून पर जहां में मिलते नहीं रोने वाले

 

साँस रुकने तक ठहर जाता कोई,

उठने से पहले खज़ाना लुट गया जनाज़े का

 

कौन धोता है नक़्श मुर्दों का ,

जीते जी दाग़ दामन के साफ़ खुद कर ले ।

 

सूरत ए आदम पर नज़र टिकती नहीं ,

हमाम में हर एक पुतला बेलिबास नज़र आता है

 

शक़्ल सूरत से हूबहू न सही कोई बात नहीं ,

तल्ख़ लहज़े से हर बन्दा आदम ए अक़्स नज़र आता है ।

 

बदल जाते हैं ज़माने की तस्वीर बदलने वाले ,

वक़्त की बादशाहत पर हमेशा एक इक्का नहीं चलता

 

मुझ पर एक एहसान निभा देते ज़माने वाले ,

मरने से पहले मेरे बिस्तर का सुकून लौटा देते ज़माने वाले ।

 

ये बाब ए सुख़न में शायरी के नग़मे हैं ,

दरमियाँ ए नज़रों से भी इनके दूर दायरे हैं ।

 

हमने एक बात सुनी थी ग़ालिब के सुखनवर पर ,

ज़ौक़ ए शायरी का लोगों में आज भी ठाठ बहुत है ।

bhoot wali darawni kahaniya,

शहर भर के उजालों पर घनेरी ज़ुल्फ़ें करके,

जाने किसके दिल का खज़ाना लूटेगी निगाहें तेरी धोखा करके ।

pix taken by google